दुष्कर्म की वजह से पीड़िता हुई गर्भवती, हाईकोर्ट से मांगी गर्भपात की इजाजत

मामले की गंभीरता को देखते हुए याचिकाकर्ता युवती को बिलासपुर सीएमएचओ के पास उपस्थित होने का निर्देश दिया. इसके साथ ही सीएमएचओ को यह भी निर्देश दिया है कि एमटीपी एक्ट 1971 के प्रावधानों के मुताबिक गर्भपात की अनुमति दी जा सकती है या नहीं. इसका भी उल्लेख करें.

Pankaj Gupte | News18 Chhattisgarh
Updated: June 19, 2019, 4:30 PM IST
Pankaj Gupte
Pankaj Gupte | News18 Chhattisgarh
Updated: June 19, 2019, 4:30 PM IST
दुष्कर्म के बाद गर्भवती हुई पीड़िता ने हाईकोर्ट से गर्भपात करवाने के लिए अनुमति मांगी है. मामले की सुनवाई करते हुए जस्टिस प्रशांत मिश्रा की बेंच ने सीएमएचओ बिलासपुर को पीड़ित युवती की जांच कर रिपोर्ट कोर्ट में पेश करने का आदेश दिए हैं. रिपोर्ट आने के बाद गुरुवार को सुनवाई होगी.

हाईकोर्ट ने आरोपी के खिलाफ जारी किया नोटिस

दरअसल, मनीष नाम के युवक पर युवती ने दुष्कर्म का आरोप लगाया है. उसका ये भी कहना है कि दुष्कर्म के कारण उसे गर्भ ठहर गया. जिसे आधार बनाकर युवती ने हाईकोर्ट से गर्भपात की अनुमति देने की मांग की है. याचिका पर प्रारंभिक सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने आरोपी युवक सहित अन्य को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है.

हाईकोर्ट ने सीएमएचओ को मेडिकल करने का दिया निर्देश

जस्टिस प्रशांत मिश्रा की बेंच ने मामले की गंभीरता को देखते हुए याचिकाकर्ता युवती को बिलासपुर सीएमएचओ के पास उपस्थित होने का निर्देश दिया. इसके  साथ ही सीएमएचओ को यह भी निर्देश दिया है कि एमटीपी एक्ट 1971 के प्रावधानों के मुताबिक गर्भपात की अनुमति दी जा सकती है या नहीं. इसका भी उल्लेख करें. युवती की मेडिकल करने के लिए हाईकोर्ट ने एक दिन का समय दिया है. हाईकोर्ट में आज बिलासपुर सीएमएचओ अपनी रिपोर्ट पेश करेंगे. इसके बाद हाईकोर्ट ये तय करेगा कि युवती को गर्भपात कराने की अनुमति जी जाए या नहीं.

ये भी पढ़ें - मंडप में दूल्हे ने किया कुछ ऐसा, दुल्हन ने पहुंचाया हवालात..

ये भी पढ़ें - पत्नी से कहासुनी पर पति ने उठाई कुल्हाड़ी और कर दी तीन की हत्या, बेटा भी घायल
 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...