अंडे से सांप निकालने व वीडियो वायरल करने का मामला, स्नेक रेस्क्यू टीम को मिली कोर्ट से राहत

स्नेक रेस्क्यू टीम के 3 लोगों को सांप के अंडे से बच्चे निकालने और उसके वीडियो को यू-ट्यूब पर वायरल करने के मामले कोर्ट से जमानत मिल गई है.

Pankaj Gupte | News18 Chhattisgarh
Updated: July 12, 2019, 7:30 AM IST
अंडे से सांप निकालने व वीडियो वायरल करने का मामला, स्नेक रेस्क्यू टीम को मिली कोर्ट से राहत
अंडे से सांप निकालने व वीडियो वायरल करने का मामला, स्नेक रेस्क्यू टीम को मिली कोर्ट से राहत
Pankaj Gupte
Pankaj Gupte | News18 Chhattisgarh
Updated: July 12, 2019, 7:30 AM IST
छत्तीसगढ़ के बिलासपुर शहर में स्नेक रेस्क्यू टीम के 3 लोगों को सांप के अंडे से बच्चे निकालने और उसके वीडियो को यू-ट्यूब पर वायरल करने के मामले कोर्ट से जमानत मिल गई है. बीते गुरुवार को जिला न्यायालय में पेशी के दौरान तीनों के अधिवक्ता ने तर्क प्रस्तुत कर कहा कि वे लोग बिलासपुर के घरों में निकलने वाले सांपों का रेस्क्यू करते हैं. रेस्क्यू कर वे सांप और लोगों की जान बचाने का काम करते हैं.

रेस्क्यू टीम के लोगों को मिली जमानत 



सांप के अंडे-Snake eggs
सांप के अंडे से बच्चे निकालने और उसके वीडियो को यू-ट्यूब पर वायरल करने के मामले


इधर, मामले की सुनवाई के बाद कोर्ट ने रेस्क्यू टीम के तीनों लोगों को जमानत दे दी है. आपको बता दें कि बिलासपुर के रहने वाले रेस्क्यू टीम के संचालक कमल चौधरी ने सांप के अंडे से उनके बच्चे को निकालने का वीडियो यूट्यूब पर अपलोड किया था. कोबरा सांप शेड्यूल एक के तहत संरक्षित प्रजाति में आता है.

कोबरा सांप-Cobra snake
कोबरा सांप शेड्यूल एक के तहत संरक्षित प्रजाति में आता है.


छापेमारी कर वन विभाग ने किया था गिरफ्तार

बहरहाल, वीडियो के वायरल होते ही रायपुर वन मुख्यालय के अफसर ने बिलासपुर वन मंडल अधिकारी को अमेरी स्थित चौधरी के घर पहुंचकर जांच करने का आदेश दिया था. इसके बाद उड़नदस्ता, वन क्षेत्र के अलावा अचानकमार टाइगर रिजर्व ने चौधरी के घर पर छापामार कार्रवाई की थी. छापेमारी में सांप के अंडे को लेकर घर लाना और हैचिंग (अंडे फोड़ना) करना वाइल्ड लाइफ प्रोटेक्शन एक्ट का उल्लंघन करना पाया गया.
Loading...

वाइल्ड लाइफ प्रोटेक्शन एक्ट-Wildlife Protection Act
सांप के अंडे को लेकर घर लाना और हैचिंग (अंडे फोड़ना) करना वाइल्ड लाइफ प्रोटेक्शन एक्ट का उल्लंघन है


लिहाजा, इसके बाद कमल चौधरी और उसके दो अन्य साथियों को वन विभाग ने गिरफ्तार कर लिया था, जिन्हें कोर्ट में पेश करने के बाद जमानत मिल गई है.

ये भी पढ़ें:- छेड़खानी की शिकार महिला और बच्चों के लिए थाने में पिंक रूम 

ये भी पढ़ें:- जमीन विवाद में चाचा की हत्या कर फरार हो गया भतीजा
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...