• Home
  • »
  • News
  • »
  • chhattisgarh
  • »
  • छत्तीसगढ़: 10 में से 9 कोरोना मरीज ठीक, लेकिन खतरा टला नहीं, क्योंकि संदिग्धों में से महज 3% की हो सकी है जांच

छत्तीसगढ़: 10 में से 9 कोरोना मरीज ठीक, लेकिन खतरा टला नहीं, क्योंकि संदिग्धों में से महज 3% की हो सकी है जांच

प्रदेश में कोविड-19 के मिले कुल पॉजिटिव में से 90 फीसदी मरीज ठीक हो चुके हैं

प्रदेश में कोविड-19 के मिले कुल पॉजिटिव में से 90 फीसदी मरीज ठीक हो चुके हैं

छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर कई सकारात्मक संकेत अब तक मिले हैं. राज्य में कोविड-19 के अब तक 10 पॉजिटिस केस सामने आए हैं.

  • Share this:
    रायपुर. छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर कई सकारात्मक संकेत अब तक मिले हैं. राज्य में कोविड-19 के अब तक 10 पॉजिटिस केस सामने आए हैं. इनमें से 9 मरीज इस संक्रमण से ठीक हो चुके हैं और उन्हें अस्पताल से छुट्टी भी दे दी गई है. 7 अप्रैल की शाम चार बजे तक प्रदेश में सिर्फ एक कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज का इलाज एम्स रायपुर में किया जा रहा था. प्रदेश में कोविड-19 के मिले कुल पॉजिटिव में से 90 फीसदी मरीज ठीक हो चुके हैं, लेकिन क्या इससे प्रदेश में कोरोना के संक्रमण का खतरा टल गया है?

    छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने न्यूज 18 से बातचीत में कहा कि 'प्रदेश में कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा बरकरार है. संदिग्धों के टेस्ट की संख्या बढ़ने पर नए मामले सामने आ सकते हैं.' राज्य सरकार द्वारा पेश किए गए एक आंकड़े के मुताबिक प्रदेश में 70 हजार 456 कोरोना संक्रमण के संदिग्ध लोग होम क्‍वारंटाइन में रखे गए हैं. इसके अलावा सरकार द्वारा बनाए गए क्‍वारंटाइन सेंटर में भी कई लोगों को रखा गया है.

    इनपर रखी जा रही कड़ी नजर
    छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण के रोकथाम के लिए राज्य नोडल अधिकारी (होम क्वारंटाइन और मीडिया प्रभारी) डॉ. अखिलेश त्रिपाठी ने बताया कि इसके अलावा सरकारी व्यवस्थाओं में 146 लोग क्‍वारंटाइन में हैं. कुल क्‍वारंटाइन लोगों में 2151 लोग विदेश से छत्तीसगढ़ आने वाले और करीब 60 हजार ऐसे संदिग्ध हैं, जो अधिक संक्रमित प्रदेशों से छत्तीसगढ़ में आए लोग व उनके परिजन, लॉकडाउन के बाद पलायन कर आने वाले मजदूर, बाकी तबलीगी जमात से जुड़े लोग और संदिग्ध मरीजों के संपर्क में आने वाले लोग व उनके परिजन हैं. इनपर कड़ी नजर है. समय समय पर जांच के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम जा रही है. इसके अलावा संदिग्ध मरीजों की पहचान व खोजबीन अब भी जारी है.

    2302 संदिग्धों की ही जांच
    राज्य सरकार द्वारा 6 अप्रैल को जारी अब तक के अंतिम कोरोना मीडिया बुलेटिन में बताया गया कि अब तक राज्य में 2303 कोविड-19 संदिग्ध मरीजों के सैंपल की जांच की गई. इनमें से 2281 की रिपोर्ट निगेटिव, 10 की पॉजिटिव व बाकी की जांच रिपोर्ट आनी बाकी थी. यानी राज्य में अब तक के कोरोना वायरस के संक्रमण के कुल संदिग्ध लोगों में से करीब 3 फीसदी लोगों के सैंपल की जांच ही की जा सकी है.

    रैपिड टेस्ट किट मंगवाए गए
    मंत्री टीएस सिंहदेव कहते हैं कि अभी तक तो कुल संदिग्धों की जांच की व्यवस्था की जा रही है. प्रदेश में कोरोना के रैपिड टेस्ट की व्यावस्था की जा रही है. टेस्ट के लिए 5 हजार किट और मंगाई गई है. इसके अलावा जांच का दायरा और बढ़ाने की व्यवस्था की जा रही है. फिलहाल राज्य सरकार हर स्तर पर कोरोना से लड़ने की तैयारी में है. टेस्ट बढ़ने के बाद आने वाली रिपोर्ट और जल्द से जल्द सभी संदिग्धों की पहचान करने के बाद ही कोरोना के संक्रमण के खतरे को लेकर सही स्थिति का पता चलेगा.

    ये भी पढ़ें:
    'CRPF के 76 जवानों की लाशें देख हाथ-पैर कांपने लगे थे, कैमरा निकालने की हिम्मत तक नहीं थी' 

    CM भूपेश बघेल का खत: 'प्रधानमंत्री जी लॉकडाउन के बाद ऐसा करने से पहले विचार कर लें' 

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज