• Home
  • »
  • News
  • »
  • chhattisgarh
  • »
  • आदिवासियों का खदान विरोधी संघर्ष: 400 से ज्यादा जवान तैनात, ड्रोन से रखी जा रही नजर

आदिवासियों का खदान विरोधी संघर्ष: 400 से ज्यादा जवान तैनात, ड्रोन से रखी जा रही नजर

दंतेवाड़ा में आदिवासियों का खदान विरोधी प्रदर्शन.

ग्रामीणों के प्रदर्शन को देखते हुए सुरक्षा एजेंसियां भी अलर्ट पर है.

  • Share this:
    छत्तीसगढ़ में आदिवासियों ने खदान विरोधी संघर्ष छेड़ दिया है. दंतेवाड़ा जिले के बैलाडीला पर्वत श्रृंखला के नंदाराज पहाड़ पर स्थित एनएमडीसी के 13 नंबर की लोह अस्यक खदान को अडानी की कंपनी को दिए जाने का आदिवासी विरोध कर रहे हैं. इस आंदोलन में शामिल होने जगदलपुर से भी ग्रामीण दंतेवाड़ा पहुंच रहे हैं. जानकारी के मुताबिक आस-पास के इलाकों के सैंकड़ों ग्रामीण पैदल मार्च कर बचेली में हो रहे प्रदर्शन में शामिल होंगे. बताया जा रहा है कि लगभग 15 से 20 हजार की संख्या में ग्रामीण इस प्रदर्शन में शामिल हो सकते हैं. सूत्रों के मुताबिक आदिवासी सड़क के साथ रेलमार्ग भी रोकने की तैयारी कर सकते हैं. बता दें कि हजारों की संख्या में ग्रामीण एनएमडीसी का घेराव कर रहे है. संयुक्त पंचायत जन संघर्ष समिति ये प्रदर्शन कर रही है. आदिवासियों के इस आंदोलन को समर्थन देने कांग्रेस, जनता जोगी ,आप पार्टी ,सीपीआई पार्टी, सर्व आदिवासी समाज,समाज सेवी सोनी सोढ़ी भी पहुंचे गए हैं. ग्रामीणों के प्रदर्शन को देखते हुए सुरक्षा एजेंसियां भी अलर्ट पर है.

    सांसद दीपक बैज ने कही ये बात

    आदिवासियों के खदान विरोधी संघर्ष पर बस्तर सांसद दीपक बैज ने एक बड़ा बयान दिया है. बस्तर सांसद ने कहा कि मैं ग्रामीणों के इस आंदोलन में उनके साथ हुं. दीपक बैज के मुताबिक उधोगपति अडानी द्वारा इलाके में सड़क बनाने के नाम पर 25000 हजार पेड़ों को काटने की अनुमति मांगी थी. लेकिन अनुमति से पहले ही इलाके में पेड़ काटने का सिलसिला शुरू कर दिया गया. दीपक बैज का कहना है कि विधानसभा में भी इस मुद्दे को उठाया जाएगा.

    ड्रोन से रखी जा रही नजर

    दंतेवाड़ा में अडानी की कंपनी को खदान आवंटन करने का विरोध आदिवासी कर रहे है. इसी बीच
    हिरोली गांव में बड़ी संख्या में नक्सली पर्चा मिलने की खबर आ रही थी. बताया जा रहा था कि नक्सली आदिवासियों के इस आंदोलन का समर्थन कर रहे है. पुलिस अधिकारियों का कहना है कि नक्सलियों के दरभा डिवीजन कमेटी ने इस प्रदर्शन को प्रायोजित किया है. फिलहाल सुरक्षा को लेकर पुलिस सतर्क है. करीब 400 की संख्या में जवान एवं महिला कमांडो तैनात कर दिए गए है. पूरे इलाके की मॉनिटरिंग ड्रोन की सहायता से की जा रही है.

     

    ये भी पढ़ें: बिजली कटौती की समस्या को लेकर प्रदर्शन, गरियाबंद में भूख हड़ताल पर बैठे ग्रामीण

    ये भी पढ़ें: छत्तीसगढ़: क्या महज सत्ता तक पहुंचने की 'सीढ़ी' बनकर रह गया है नक्सलवाद? 

    ये भी पढ़ें: कांग्रेस सरकार ने बदला 10 साल पुराना राज्य स्लोगन, अब 'गढ़बो नवा छत्तीसगढ़' पर राजनीति शुरू 

    ये भी पढ़ें:   खेत की रखवाली कर रहे बुजुर्ग को हाथियों ने कुचला, मौत 

    ये भी पढ़ें:   धोखाधड़ी: कृषि मंत्री के इलाके में ही बिना लोन लिए 'कर्जदार' हो रहे किसान!

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स    

     

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज