Assembly Banner 2021

अटल विकास यात्रा: दंतेवाड़ा में मुख्यमंत्री ने की कई विकास योजनाओं की घोषणा

अटल विकास यात्रा में रमन सिंह

अटल विकास यात्रा में रमन सिंह

मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने दंतेवाड़ा के पुरातात्विक नगरी बारसूर में विशाल जन सभा को संबोधित किया. उन्होंने कहा बस्तर और सरगुजा संभाग के आदिवासियों पर शराब रखने और जंगल से लकड़ी काटने के 20 हजार से अधिक मुकदमें वापस लिए जाएगें.

  • Share this:
अटल विकास यात्रा के दूसरे चरण में रविवार को मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने दंतेवाड़ा के पुरातात्विक महत्व के स्थान बारसूर में विशाल जन सभा को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने आदिवासियों पर शराब रखने और जंगल से लकड़ी काटने के 20 हजार से अधिक मुकदमें वापस लिए जाने की घोषणा की.  मुख्यमंत्री ने 137 करोड़ के विकास कार्यों का लोकार्पण, भूमिपूजन और शिलान्यास भी किया.

सभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि जल्द ही अबूझमाड़ क्षेत्र का हर घर रोशन होगा. सरकार अदिवासियों के घर का अंधेरा दूर करने की दिशा में तेजी से काम कर रही है. राज्य के शिक्षा मंत्री केदार कश्यप ने भी सभा को संबोधित किया. लोकसभा सांसद दिनेश कश्यप समेत कई वरिष्ठ नेता भी मंच पर मौजूद रहे.

यह भी पढें- दंतेवाड़ा: छह दिन से अगवा दो ग्रामीणों की नक्सलियों ने की हत्या



मुख्यमंत्री ने कहा "छत्तीसगढ़ अपनी स्थापना के रजत जयंती वर्ष तक देश के सबसे विकसित राज्यों में से एक होगा. हमने वर्ष 2025 तक नवा छत्तीसगढ़ बनाने का लक्ष्य रखा है. रजत जयंती वर्ष तक प्रदेश के हर गांव में सड़क, बिजली और इंटरनेट की सुविधा होगी. सभी गांवों में बुनियादी सुविधाओं के साथ सभी के लिए पक्का मकान, शिक्षा और स्वास्थ्य की बेहतर सुविधाएं होंगी".
मुख्यमंत्री ने यहां 40,000 से अधिक ग्रामीणों को अलग-अलग योजनाओं के तहत 11 करोड़ 61 लाख रूपए की सामग्री और सहायता राशि का वितरण किया. 'संचार क्रांति योजना' के तहत 12,000 महिलाओं को स्मार्ट फोन, उज्जवला योजना के तहत 1,000 महिलाओं को रसोई गैस कनेक्शन, 'मनरेगा' के श्रमिकों को टिफिन और टॉर्च वितरित किया.

750 करोड़ रूपए 12 लाख चरण पादुकाओं का वितरण जारी

मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने कहा कि प्राथमिक वन समितियों के प्रबंधकों का मानदेय 12,000 रूपये से बढ़ाकर 15000 रूपये कर दिया गया है. वन क्षेत्रों में तेन्दूपत्ता इकट्ठा करने वालों को तेन्दूपत्ता बोनस के रूप में 750 करोड़ रूपए की राशि और 12 लाख चरण पादुकाओं का वितरण किया जा रहा है.

उन्होंने बताया दंतेवाडा क्षेत्र, राज्य के निर्माण से पहले गरीबी, पिछड़ेपन और पलायन की समस्या से जूझ रहा था. 'मुख्यमंत्री खाद्यान सुरक्षा योजना' से अब छत्तीसगढ़ में कोई भी भूखा नहीं सोता. 'प्रधानमंत्री उज्जवला योजना' के तहत अनुसूचित जन जाति और अनुसूचित जाति के सभी परिवारों को मुफ्त रसोई गैस कनेक्शन दिए जा रहे हैं. अटल विकास यात्रा राज्य  के विकास को चार गुना करने की यात्रा है. आने वाले पांच साल में  वर्तमान विकास के चार गुना विकास का लक्ष्य है.

यह भी पढें- छत्तीसगढ़ में बीएसपी का कांग्रेस से गठबंधन आसान नहीं

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज