दंतेवाड़ा उपचुनाव में कांग्रेस के मंत्री कर रहे BJP की मदद!
Dantewada News in Hindi

दंतेवाड़ा उपचुनाव में कांग्रेस के मंत्री कर रहे BJP की मदद!
चुनाव प्रचार के लिए दंतेवाड़ा (Dantewada) पहुंचे अजय चन्द्राकर ने कहा कि कवासी लखमा (Kawasi Lakhma) बीजेपी का मदद कर रहे हैं.

चुनाव प्रचार के लिए दंतेवाड़ा (Dantewada) पहुंचे अजय चन्द्राकर ने कहा कि कवासी लखमा (Kawasi Lakhma) बीजेपी का मदद कर रहे हैं.

  • Share this:
दंतेवाड़ा: छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) विधानसभा के दंतेवाड़ा उपचुनाव (Dantewada By-Election) में प्रचार प्रसार जोरों पर है. इस दौरान आरोप प्रत्यारोपों का दौर भी जारी है. इसी बीच चुनाव में एक चर्चा जोरों पर है कि कांग्रेस समर्थित राज्य सरकार में मंत्री कवासी लखमा (Minister Kawasi Lakhama) बीजेपी की मदद कर रहे हैं. बीजेपी (BJP) के वरिष्ठ विधायक व रमन सरकार में मंत्री रहे अजय चन्द्राकर (Ajay Chandrakar) ने भी यही बात कही है. इसके बाद से चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है. अजय चन्द्राकर के इस बयान के बाद उपचुनाव की सरगर्मी और बढ़ गई है.

चुनाव प्रचार के लिए दंतेवाड़ा (Dantewada) पहुंचे अजय चन्द्राकर ने कहा कि कवासी लखमा (Kawasi Lakhma) बीजेपी का मदद कर रहे हैं. अजय चंद्राकर ने कहा कि ‘कवासी लखमा की कार्यशैली ऐसी है कि वे हमारे लिए मददगार हैं. दंतेवाड़ा के चुनाव में कवासी लखमा प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से भाजपा की मदद कर रहे हैं.’ भाजपा विधायक अजय चंद्राकर ने आगे कहा- ‘कवासी लखमा बिल्कुल नहीं चाहते कि कोई दूसरा आदमी दंतेवाड़ा, सुकमा और बीजापुर जिले की राजनीति में आगे बढ़े.’

23 को होनी है वोटिंग
बता दें कि लोकसभा चुनाव 2019 के पहले चरण की वोटिंग से पहले दंतेवाड़ा विधायक भीमा मंडावी की नक्सलियों ने हत्या कर दी थी. इसके बाद से सीट खाली है. इस सीट पर अब उपचुनाव की प्रक्रिया की जा रही है. उपचुनाव में सियासी पारा चढ़ा हुआ है. ऐसे में नेताओं के जुबानी वार भी तेज हो गए हैं. पूर्व मंत्री व भाजपा विधायक अजय चंद्राकर और आबकारी मंत्री कवासी लखमा के बीच आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला चल पड़ा है. इस सीट पर 23 सितंबर को वोटिंग होगी. इसके बाद 27 सिंतबर को मतगणना होगी.
ये भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ की आदिवासी संस्कृति को पहचान देने होगा नेशनल ट्राइबल डांस फेस्टिवल 



ये भी पढ़ें: कांग्रेस ने लिया बीजेपी मुक्त बस्तर का संकल्प, BJP ने कहा- सपना देखने में दिक्कत क्या है?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज