दंतेवाड़ा में सुरक्षाबलों और नक्‍सलियों के बीच मुठभेड़, 2 लाख की इनामी महिला माओवादी ढेर

कहा जा रहा है कि गुमलनार के जंगलों में मुठभेड़ हुई है.(सांकेतिक फोटो)

नक्‍सलियों के साथ मुठभेड़ की यह घटना गीदम थाना क्षेत्र की है. एसपी डॉ. अभिषेक पल्लव (SP Dr. Abhishek Pallava) ने इसकी पुष्टि की है.

  • Share this:
    दंतेवाड़ा. छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में एक बड़ी खबर सामने आई है. यहां पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ (Encounter) हुई है. इस एनकाउंटर में 2 लाख की इनामी महिला नक्सली पायके बेको ढेर हो गई है. मृतक नक्सली प्लाटून नम्बर 16 की सदस्य थी. शव के साथ कन्ट्री मेड बंदूक, पिट्ठू, आईईडी और दवा समेत भारी मात्रा में नक्सली सामग्री बरामद हुई है. जानकारी के मुताबिक, मामला गीदम थाना क्षेत्र का है. एसपी डॉ. अभिषेक पल्लव (SP Dr. Abhishek Pallava) ने इस घटना की पुष्टि की है. गुमलनार के जंगलों में मुठभेड़ हुई है.

    बता दें कि इध छत्तीसगढ़ में पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ बढ़ गई है. बीते 17 मई को खबर सामने आई थी कि छत्तीसगढ़ के सुकमा के सिलगेर गांव में पुलिस कैम्प पर नक्सलियों ने गोलीबारी की. नक्सलियों ने ग्रामीणों के साथ मिलकर पुलिस कैंप जलाने की कोशिश की. सुरक्षाबल पर पत्थर फेंके गए. ग्रामीणों के बीच छुपे नक्सलियों द्वारा फायरिंग की गई जिसके बाद सुरक्षाबल ने भी फायरिंग की. फायरिंग में 3 ग्रामीण मारे गए. कुछ नक्सलियों के मारे जाने की भी खबर है.

    सिलगेर के इस पुलिस कैम्प के विरोध में तीन दिन से पांच हजार ग्रामीण प्रदर्शन कर रहे हैं. ये इलाका नक्सलियों का कोर इलाका है. अगर इस इलाके में पुलिस कैम्प खुला तो नक्सलियों को दंतेवाड़ा बीजापुर-सुकमा के जंगल मे आने जाने में काफी तकलीफ होगी. इसके चलते नक्सली आदिवासियों से प्रदर्शन करवा रहे हैं.  आईजी ने कहा कि नक्सलियों ने कैंप पर हमला किया. सूत्रों के मुताबिक, पुलिस की ओर से भी फायरिंग का जवाब दिया गया. सुकमा जिले सिलगेर इलाका नक्सल से बहुत ज्यादा प्रभावित है. यहां खुल रहे पुलिस कैम्प का विरोध करने के लिए नक्सलियों ने कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन करते हुए पांच हजार से ज्यादा आदिवासियों की भीड़ जमा की. ग्रामीण पर्चे पढ़कर पुलिस के खिलाफ नारे लगाते रहे.  इसी बीच नक्सलियों ने अचानक पुलिस कैंप पर फायरिंग कर दी.