vidhan sabha election 2017

बीहड़ में बन रही एक सड़क, जो उखाड़ेगी नक्सलियों के पैर

ETV MP/Chhattisgarh
Updated: December 8, 2017, 12:18 PM IST
बीहड़ में बन रही एक सड़क, जो उखाड़ेगी नक्सलियों के पैर
घोर नक्सल प्रभावित इलाके में सड़क निर्माण के दौरान सुरक्षा में तैनात जवान.
ETV MP/Chhattisgarh
Updated: December 8, 2017, 12:18 PM IST
लोकेश शर्मा. नक्सलियों के अब तक के सबसे सुरक्षित ठिकाने वाले इलाके कटेकल्याण- गुडरा मार्ग में संगीनों के साए में सड़क बननी शुरू हो गयी है. ये काम छतीसगढ़ आर्मड फोर्स (सीएएफ) की सुरक्षा में हो रहा है. सीएएफ की एक कंपनी दन्तेवाड़ा के तुमकपाल के जंगलों में तैनात की गई है. आठ किलोमीटर तक नक्सलियों के काटे 56 गढ्ढों को बड़ी मशीनें लगाकर जवानों ने भरवा दिया है.

दंतेवाड़ा पुलिस अधीक्षक का दावा है कि यह सड़क बनते ही इस इलाके से नक्सलियों के पाव जड़ से उखड़ जायेंगे. साथ ही क्षेत्र का बेहतर विकास भी हो सकेगा. कटेकल्याण से गुडरा मार्ग को वर्षों से नक्सलियों ने कब्जे में कर रखा था. जिसके चलते दर्जनों गांवों तक सरकार और सरकारी योजनाओं की पहुंच शून्य हो गयी थी. अब फिर जवानों के दम पर सड़क बनने का काम शुरू कर दिया गया है.

सड़क बनवाने के लिए CAF की बटालियन रातों-रात तुमकपाल के जंगलों में बैठा दी गई.
इस सड़क पर नक्सलियों ने समय-समय पर अपनी ताकत दिखाई है. इसी आशंका से पुलिस ने नक्सलियों के PLGA सप्ताह के ठीक पहले ही CAF का कैंप बैठाकर नक्सलियों की रणनीति पर भी पानी फेर दिया है. सड़क सुरक्षा में जवान जंगलों के अंदर दूर दूर तक घुसकर इस सड़क को सुरक्षा देने में लगे हैं.

गांववालों के लिए राहत देने वाली खबर 

सड़क बनने से ग्रामीणों को रोजमर्रा की जरूरतों के लिए भटकना नहीं पड़ेगा. सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाएं की सुविधाएं ग्रामीणों को मिलनी शुरू हो जाएंगी. बीहड़ में बनने वाली यह सड़क वर्षों से नक्सलवाद की पीड़ा झेल रहे गांवों के लिए राहत भरी खबर है.

ग्रामीण हीरा बताते हैं कि सड़क बनने से गावों के लोगों को राहत मिलेगी. सरकारी योजनाएं उन तक आसानी से पहुंच सकेगी. सड़क बनने के बाद क्षेत्र का विकास भी आसानी से हो सकेगा. हालांकि नक्सल समस्या को देखते हुए ज्यादातर ग्रामीण इस बारे में कुछ भी कहने से बच रहे हैं.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर