• Home
  • »
  • News
  • »
  • chhattisgarh
  • »
  • Holi 2020: यहां देवताओं के साथ खेली जाती है होली, जानें बस्तर की ये खास परंपरा

Holi 2020: यहां देवताओं के साथ खेली जाती है होली, जानें बस्तर की ये खास परंपरा

बस्तर में होली की अनोखी परंपरा. (File Photo)

बस्तर में होली की अनोखी परंपरा. (File Photo)

फागुन मड़ई के आयोजन की प्रत्येक कड़ियां भव्य और दर्शनीय है जो कि एक ओर आखेट प्रथा की परम्परागतता का प्रदर्शन है तो नाट्य विधा की पराकाष्ठा भी.

  • Share this:
दंतेवाड़ा. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के दंतेवाड़ा (Dantewada) जिला बस्तर संभाग का हृदय क्षेत्र है. यहां माई दंतेश्वरी का मंदिर, बैलाडिला पर्वत श्रंखला, शंखिनी-डंकिनी और इन्द्रावती नदियां, रेलवे लाईन, लौह अयस्क परियोजना, एज्युकेशन सिटी जैसे कितने ही कारक हैं जो संभाग में दंतेवाड़ा की अलग पहचान निरूपित करते हैं. दंतेवाड़ा के सांस्कृतिक परिचय को समझने के लिए यहां के लोकजीवन और लोकपर्वों को जानना चाहिए और इसके लिए फागुन मड़ई एक दर्शनीय लोकोत्सव है. बस्तर की आराध्य देवी मां दंतेश्वरी (Maa Danteshwari) के सम्मान में मड़ई, फागुन शुक्ल की शष्ठी से ले कर चौदस तक आयोजित की जाती है. दस दिनों तक चलने वाला यह आयोजन वर्तमान को इतिहास से जोड़ता है. फागुन मड़ई के आयोजन की प्रत्येक कड़ियां भव्य और दर्शनीय है जो कि एक ओर आखेट प्रथा की परम्परागतता का प्रदर्शन है तो नाट्य विधा की पराकाष्ठा भी.

पारंपरिक और ऐतिहासिक महत्व वाले फागुन मड़ई की शुरुआत बसंत पंचमी से हो जाती है. लेकिन होली (Holi) के 12 दिनों पहले से मुख्य आयोजन शुरु हो जाता है. माई जी की पालकी मंदिर से निकलती है और सत्य नारायण मंदिर तक जाती है. वहां पूजा पाठ के बाद वापस मंदिर पहुंचती है. खास बात यह है कि छत्तीसगढ़ समेत ओडिशा से लोग अपने ईष्ट देव का ध्वज और छत्र लेकर पहुंचते है. करीब साढ़े सात सौ देवी-देवताओं का यहां फागुन मड़ई में संगम होता है. होली का पर्व माई दंतेश्वरी सभी देवी-देवताओं और मौजूद लोगों के साथ यहां मनाती हैं.

45 दिनों तक मनाया जाता है  फागुन मडई

बसंत पंचमी के दिन लगभग 700 साल प्राचीन अष्टधातु से निर्मित, एक त्रिशूल स्तम्भ को दंतेश्वरी मंदिर के मुख्य द्वार के सम्मुख स्थापना की जाती है. इसी दोपहर को आमा मऊड रस्म का निर्वाह किया जाता है जिसके दौरान माई जी का छत्र नगर दर्शन के लिए निकाला जाता है और बस स्टेंड के पास स्थित चौक में देवी को आम के बौर अर्पित किए जाते हैं. इसके बाद मड़ई के कार्यक्रमों का आरंभ मेंडका डोबरा मैदान में स्थित देवकोठी से होता है, जहां पूरे विधि-विधान के साथ देवी का छत्र लाया जाता है. फायर करने के साथ-साथ हर्षोल्लास तथा जयकारे के शोर में छत्र को सलामी दी जाती है.

होली का पर्व माई दंतेश्वरी सभी देवी-देवताओं और मौजूद लोगों के साथ यहां मनाती हैं.


दंतेश्वरी मंदिर के प्रधान पुजारी हरेंद्र नाथ जिया बताते हैं कि इस दिन दीप प्रज्जवल करते हैं और परम्परानुसार कलश की स्थापना की जाती है. पटेल द्वारा पुजारी के सिर में भंडारीन फूल से फूलपागा (पगड़ी) बांधा जाता है. आमंत्रित देवी-देवताओं और उनके प्रतीकों, देवध्वज और छत्र के साथ माई जी की पालकी पूरी भव्यता के साथ परिभ्रमण के लिए निकाली जाती है. देवी की पालकी नारायण मंदिर लाई जाती है, जहां पूजा-अर्चना तथा विश्राम के बाद सभी वापस दंतेश्वरी माता मंदिर पहुंचते हैं. इसी रात ताड-फलंगा धोनी की रस्म अदा की जाती है. इस रस्म के तहत ताड के पत्तों को दंतेश्वरी तालाब के जल से विधिविधान से धो कर उन्हें मंदिर में रखा जाता है, इन पत्तों का प्रयोग होलिका दहन के लिए होता है.

होलिका दहन की खास परंपरा

दंतेवाड़ा के होलिका दहन की भी असामान्य कहानी है जो होलिका से न जुड़ कर उस राजकुमारी की स्मृतियों से जुडती है जिसका नाम अज्ञात है. लेकिन कहा जाता है कि किसी आक्रमणकारी से खुद को बचाने के लिए उन्होंने आग में कूद कर अपनी जान दे दी थी. दरअसल, दंतेवाड़ा के ख्यात शनि मंदिर के पास ही सति शिला स्थापित है जिसे इस राजकुमारी के निधन का स्मृतिचिन्ह मान कर आदर दिया जाता है. इसके सम्मुख ही परम्परागत ताड के पत्तों से होलिका दहन होता है और उस आक्रमणकारी को गाली दी जाती है जिसके कारण राजकुमारी ने आत्मदाह किया था.

chhattisgarh news, cg news, dantewada news, holi 2020, holi 2020 celebration, holi special story, bastar holi, chhattisgarh holi, छत्तीसगढ़ न्यूज, सीजी न्यूज, होली न्यूज, होली 2020, होली सेलिब्रेशन, होली न्यूज, बस्तर की होली, होली की खास खबर, होली की खबर, होली की खास खबर, बस्तर की होली
ताड के पत्तों के साथ होलिका दहन की परंपरा पूरी की जाती है.


स्थानीय जानकार यशवंत यादव बताते हैं कि होली के पर्व पर ग्रामीण राजकुमारी की याद में जलाई गई होलिका की राख और दंतेश्वरी मंदिर की मिट्टी से रंगोत्सव मनाते हैं. एक व्यक्ति को फूलों से सजा कर होली भांठा पहुंचाया जाता है जिसे लोग लाला कहते है. फिर माई जी के आमंत्रित देवी-देवताओं के साथ होली खेली जाती है. आमंत्रित देवी-देवताओं की विदाई के साथ ही दक्षिण बस्तर का प्रसिद्ध फागुन मंडई महोत्सव संपन्न होता है.

ये भी पढ़ें: 

अनुराग ठाकुर का CM भूपेश बघेल पर तंज, कहा- सवालों के घेरे में खुद सवाल उठाने वाले



इस गांव में 150 साल से नहीं खेली गई होली, लोगों को है 'अनहोनी' का डर 



ब्रेस्ट कैंसर से लड़कर नक्सल इलाके के लोगों की मदद करती हैं पुष्पा, पढ़ें Inspirational स्टोरी 

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज