• Home
  • »
  • News
  • »
  • chhattisgarh
  • »
  • 'देवता' बचाने की 'जंग': आदिवासियों ने कहा इस शर्त पर ही खत्म होगा आंदोलन

'देवता' बचाने की 'जंग': आदिवासियों ने कहा इस शर्त पर ही खत्म होगा आंदोलन

दंतेवाड़ा में एनएमडीसी के बाहर धरने पर बैठे आदिवासी.

दंतेवाड़ा में एनएमडीसी के बाहर धरने पर बैठे आदिवासी.

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में आदिवासियों के प्रदर्शन का नेतृत्व कर रही संयुक्त पंचायत संघर्ष सामिति का कहना है कि आंदोलन जारी रहेगा.

  • Share this:
    छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिला स्थित किरंदुल में पांच दिनों से चल रहा आदिवासियों का धरना प्रदर्शन मंगलवार को भी जारी है. आज कांग्रेस के आदिवासी नेताओं का एक प्रतिनिधि मंडल मुख्यमंत्री भूपेश बघेल व वन मंत्री मोहम्मद अकबर से मिला. मुख्यमंत्री ने प्रतिनिधि मंडल की मांगों को मानकर नंदराज पहाड़ पर पेड़ों की कटाई तत्काल प्रभाव से रोकने सहित अन्य निर्देश दिए, लेकिन इसके बाद भी किरंदुल में धरने पर बैठे आदिवासियों ने अपना प्रदर्शन जारी रखने की बात कही है.

    आदिवासियों के प्रदर्शन का नेतृत्व कर रही संयुक्त पंचायत संघर्ष सामिति का कहना है कि आंदोलन जारी रहेगा. समिति के सदस्य राजू भास्कर, नंदा व अन्य का कहना है कि जब तक खदान को निरस्त करने का लिखित आश्वासन नहीं मिलेगा तब तक आंदोलन खत्म नहीं करेंगे. आदिवासियों का बड़ा समूह किरंदुल के एनएमडीसी चेकपोस्ट के सामने बीते 7 जून से धरना दे रहा है. इस धरना प्रदर्शन को तमाम राजनीतिक दल समर्थन दे रहे हैं. आदिवासी बैलाडीला के नंदग्राम (नंदराज) पहाड़ी पर खुदाई का विरोध कर रहे हैं.

    मीडिया से चर्चा करते भूपेश बघेल.


    सीएम ने मानी ये मांगें
    बस्तर से आए कांग्रेस के आदिवासी नेताओं के प्रतिनिधि मंडल से चर्चा करने के बाद सीएम भूपेश बघेल ने मांगों को मानते हुए निर्देश दिए. इसमें नंदराज पर्वत पर पेड़ों की कटाई पर तुरंत रोक, वर्ष 2014 के फर्जी ग्राम सभा के आरोप की जांच, क्षेत्र में संचालित खनन कार्यों पर रोक और राज्य सरकार की ओर से भारत सरकार को पत्र लिख कर जन भावनाओं की जानकारी देने का निर्णय लिया गया है. नंदराज पहाड़ी पर पेड़ों की कटाई की जांच को लेकर तीन सदस्यीय समिति का गठन भी कर दिया गया है. इसमें जांच के बाद कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं. सीएम ने मीडिया को इसकी जानकारी दी. मालूम हो कि कांग्रेस के प्रतिनिधि मंडल में बस्तर सांसद दीपक बैज और कांग्रेस विधायक मोहन मरकाम, दंतेवाड़ा की पूर्व विधायक देवती कर्मा, पूर्व मंत्री अरविंद नेताम सहित अन्य शामिल थे.

    सीएम भूपेश बघेल को ज्ञापन सौंपते पीली रंग की शर्ट पहने बस्तर सांसद दीपक बैज व अन्य.


    संसद में उठाएंगे मामला
    कांग्रेस के प्रतिनिधि मंडल का नेतृत्व कर रहे बस्तर सांसद दीपक बैज ने मीडिया से चर्चा में कहा कि आदिवासियों की लड़ाई में वे उनके साथ हैं. धरना दे रहे लोगों की मांग को लेकर उन्होंने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने से मुलाकात की. मुख्यमंत्री ने उनकी मांगों को मान लिया है. चूंकि मामला केन्द्र सरकार से जुड़ा है. इसलिए संसद में आगामी सत्र में वे इस मामले को उठाएंगे और नंदराज पर्वत पर खनन की रोक लगाने की मांग करेंगे.

    धरने पर बैठे आदिवासी.


    'देवता को बचाने की जंग'
    आदिवासी बैलाडीला के नंदग्राम (नंदराज) पहाड़ी पर खनन की अनुमति का विरोध कर रहे हैं. आदिवासियों का मानना है कि नंदग्राम पहाड़ की पूजा वे अपने कुलदेव नंदराज के रूप में करते हैं, इसलिए वे उस पहाड़ की खुदाई होने नहीं दे सकते. इसको लेकर ही बीते 7 जून से सुबह तीन बजे से आदिवासियों का समूह एनएमडीसी के सामने धरना देकर प्रदर्शन कर रहा है. संयुक्त पंचायत जन संघर्ष समिति के मंगल कुंजाम का कहना है कि दंतेवाड़ा, सुकमा और बीजापुर ज़िलों सहित पड़ेसी राज्य ओड़िशा और महाराष्ट्र के हज़ारों आदिवासियों के देवताओं का घर नंदराज पर्वत है और यह आदिवासियों की आस्था से जुड़ा हुआ सवाल है. हम आदिवासी किसी के भी द्वारा इस नंदराज पर्वत की खुदाई के सख़्त ख़िलाफ़ हैं.

    मंगल कुंजाम का कहना है कि जिस डिपॉजिट 13 की खुदाई का ठेका अडानी समूह की कंपनी को दिया गया है, वहां हमारे देवता नंदराज की पत्नी पित्तोड़ रानी का मायका भी है. ऐसे में इस पहाड़ी का हम आदिवासियों के लिए धार्मिक महत्व है. ऐसे में इसकी खुदाई किसी को भी नहीं करने देंगे. हमारे देवताओं की इस पहाड़ी को बचाने के लिए हम संघर्ष कर रहे हैं. हम अपने देवता को बचाने की जंग लड़ रहे हैं.

    धरने पर बैठे आदिवासी.


    65 से 70 फीसदी आयरन
    डानी ग्रुप ने सितंबर 2018 को बैलाडीला आयरन ओर माइनिंग प्राइवेट लिमिटेड यानी बीआईओएमपीएल नाम की कंपनी बनाई और दिसंबर 2018 को केन्द्र सरकार ने इस कंपनी को बैलाडीला में खनन के लिए विकासकर्ता सह प्रचालक यानी एमडीओ के रूप में 25 साल के लिए लीज दे दी गई है. बैलाडीला के डिपॉजिट 13 में 315.813 हेक्टेयर रकबे में लौह अयस्क खनन के लिए वन विभाग ने वर्ष 2015 में पर्यावरण क्लियरेंस दिया है. जिस पर एनएमडीसी और राज्य सरकार की सीएमडीसी को संयुक्त रूप से उत्खनन करना था.

    इसके लिए राज्य व केंद्र सरकार के बीच हुए करार के तहत संयुक्त उपक्रम एनसीएल का गठन किया गया था, लेकिन बाद में इसे निजी कंपनी अडानी इंटरप्राइजेस लिमिटेड को 25 साल के लिए लीज हस्तांतरित कर दिया गया. डिपाॅजिट-13 के 315.813 हेक्टेयर रकबे में 250 मिलियन टन लौह अयस्क होने का पता सर्वे में लगा है. इस अयस्क में 65 से 70 फीसदी आयरन की मात्रा पायी जाती है.
    (दंतेवाड़ा से अब्दुल हमीद के साथ रायपुर से निलेश त्रिपाठी की रिपोर्ट)

    ये भी पढ़ें: सीएम भूपेश बघेल ने मानी आंदोलन कर रहे आदिवासियों की मांग

    ये भी पढ़ें: छत्तीसगढ़: 'देवता' को बचाने सरकार से 'संघर्ष' कर रहे आदिवासी 

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स 

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज