• Home
  • »
  • News
  • »
  • chhattisgarh
  • »
  • खुद की बिछाई जाल में फंसा नक्सली, सुरक्षा बल के जवानों ने ऐसे बचाई 'दुश्मन' की जान

खुद की बिछाई जाल में फंसा नक्सली, सुरक्षा बल के जवानों ने ऐसे बचाई 'दुश्मन' की जान

घायल नक्सली की जवानों ने की मदद.

घायल नक्सली की जवानों ने की मदद.

सुरक्षा बल (Security Force) के जवानों को अपना दुश्मन समझने वाले नक्सली (Naxalite) की जान जब खतरे में पड़ी तो उसके साथ छोड़कर भाग गए.

  • Share this:
    सुरक्षा बल (Security Force) के जवानों को अपना दुश्मन समझने वाले नक्सली (Naxalite) की जान जब खतरे में पड़ी तो उसके साथ छोड़कर भाग गए. ऐसे में जवानों ने ही नक्सली की मदद की और उसकी जान बच सकी. मामला छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के घोर नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा (Dantewada & Sukma) और सुकमा जिले के बॉर्डर का है. जंगल में घायल मिले नक्‍सली को डीआरजी (DRG) के जवानों ने अस्पताल पहुंचाया. ये नक्सली खुद की बिछाई जाल में फंस गया था. मुसीबत में पड़ता देख जब साथी छोड़कर भाग गए तो जवानों ने उसकी मदद की.

    दंतेवाड़ा पुलिस (Dantewda Police) से मिली जानकारी के मुताबिक बीते 31 अगस्त की शाम को डिस्ट्रिक्‍ट रिजर्व गार्ड (DRG) के जवान सर्चिंग के लिए सुकमा बॉर्डर एरिया में निकले थे. इसी दौरान नागलगुड़ा पहाड़ी इलाके में कुछ संदिग्ध गतिविधियों की जानकारी लगी. नक्सली (Naxalite) वहां जवानों को नुकसान पहुंचाने के लिए स्पाइक होल लगा रहे थे. जवानों को आता देख नक्सली वहां से भागने लगे. इसी बीच नक्‍सली ग्राम कमेटी पार्टी का अध्‍यक्ष भीमा पिता मड़कम हिड़मा (30) उसी स्पाइक होल में फंस गया, जिसे उसने जवानों के लिए बिछाया था. भीमा को फंसा देख उसके साथ भाग गए.

    dantewada, sukma, chhattisgarh, naxal, police, drg, Naxalites trapped in spike hole, security forces, खुद की बिछाई जाल में फंसा नक्सली, स्पाइक होल, छत्तीसगढ़, दंतेवाड़ा, सुकमा
    अस्पताल में भर्ती भीमा,


    दाहिना पैर है जख्मी
    पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक भीमा का दाहिना पैर बुरी तरह जख्मी है. पैर में लोहे के सरिया और नुकीले पत्‍थरों के जख्‍म हैं और सूजन भी है. घायल अवस्था में पड़े नक्सली को जवानों ने इसके बाद जवानों ने उसे कांधे में उठाकर पहाड़ से नीचे उतारा और शनिवार की देर रात दंतेवाड़ा जिला अस्पताल भर्ती कराया. डॉक्‍टर उसका इलाज कर रहे हैं. डॉक्‍टरों के अनुसार जंग लगे लोहे की छड़ से जख्‍म गहरा और हड्डियों तक पहुंच गया.

    कैसा होता है स्‍पाइक होल
    बता दें कि सुरक्षा बल के जवानों को फंसाकर घायल करने के लिए नक्‍सली जंगल और रास्‍तों में बड़े गड्ढे खोदकर वहां लोहे की नुकीले रॉड, कांटे, कांच के टुकड़े और नुकीले पत्‍थर लगा देते हैं. गड्ढे को ऊपर से पत्‍ते और धूल से ढंक दिया जाता है. ऐसे गड्ढों पर सर्चिंग पर निकले जवान गिरकर घायल होते हैं. नुकीले सरिया, कांटे से कई बार बुरी तरह जख्‍मी हो जाते हैं.

    ये भी पढ़ें: रोजी-रोटी की तलाश में कश्मीर गया युवक, बॉल समझकर उठा लिया ग्रेनेड फिर... 

    ये भी पढ़ें: बाथरूम में गिरे सीएम भूपेश बघेल के पिता, दरवाजा तोड़कर निकाला गया बाहर 

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज