लाइव टीवी

गणतंत्र दिवस स्पेशल: नक्सल हिंसा में खोया परिवार, अब देश की सुरक्षा कर रही हैं दंतेश्वरी महिला फाइटर

Abdul Hameed Siddique | News18 Chhattisgarh
Updated: January 25, 2020, 6:45 PM IST
गणतंत्र दिवस स्पेशल: नक्सल हिंसा में खोया परिवार, अब देश की सुरक्षा कर रही हैं दंतेश्वरी महिला फाइटर
दंतेश्वरी महिला कमांडो की टीम.

जो कभी काले झंडे को सलाम करती थीं. लेकिन आज वे तिरंगे की सलामी के साथ उसके नीचे खुद को सुरक्षति और सम्मानित महसूस करते हैं.

  • Share this:
दंतेवाड़ा. ये कहानी है उनकी जो कभी तिरंगे का विरोध करते थे, अब उसी तिरंगे को सलामी देते हैं.  तिरंगे के नीचे शांति और सुकून है. तिरंगा शौर्य और गर्व है.  तिरंगे के लिए करने वाला हर काम सम्मान दिलाता है. ये विचार और किसी के नहीं बल्कि आत्मसमर्पण करने वाली महिला नक्सलियों का है, जो कभी काले झंडे को सलाम करती थीं. लेकिन आज वे तिरंगे की सलामी के साथ उसके नीचे खुद को सुरक्षति और सम्मानित महसूस करते हैं और अब देश की सुरक्षा में अपना एक अहम योगदान दे रही है.

नक्सलवाद ने छीना परिवार

दो साल पहले आत्समर्पण करने वाली महिला एक पूर्व नक्सली का कहना है कि नक्सलवाद अब अपने सिद्धांतों से भटक गया है. दो साल पहले वह मोस्ट वांटेड नक्सली थी और उसके खिलाफ कई मामले दर्ज थे. उसकी गिरफ्तारी पर 5 लाख रुपये का इनाम घोषित था. संगठन के लिए अपना जान लगाने वाली दो बहनों और उनके चाचा को ही नक्सलियों ने मौत के घाट उतार दिया, आरोप लगाया पुलिस की मुखबिरी का. ऐसी कई महिला नक्सली हैं जो अब अत्मसमर्पण कर मुख्य धारा में लौट गई  हैं.

ऐसा बनीं दंतेश्वरी महिला फाइटर

अब पूर्व महिला नक्सलियों की 36 लोगों की एक टीम बनाई गई है जिसे दंतेश्वरी महिला फाइटर के नाम से जाना जाता है. पुरष जवानों के साथ अब महिला फाइटर भी नक्सल ऑपरेशन में भाग ले रही है. जंगलों में सर्चिंग के दरमियान इन्होने अब तक कई मुठभेड़ों में नक्सलियों के साथ आमना-सामना किया और मुठभेड़ में कई नक्सलियों को मार भी गिराया है. महिला कमांडो का साफ कहना है कि अब अगर नक्सली हमारे जवान भाइयों पर एक गोली चलाएंगो, तो हम उसका 100 गोलियों से जवाब देंगे. हम हमारे भाइयों को कुछ नहीं होने देंगे.

ऐसे ही आत्म समर्पण करने वाली महिला नक्सलियों से तैयार सुपर 36 महिला कमांडो गणतंत्र दिवस पर जिले के मुख्य समारोह में तिरंगे को सलामी देंगी. वे पुलिस और स्कूली बच्चों के अन्य टुकड़ियों के साथ मुख्य समारोह के परेड का हिस्सा भी रहेंगी. डीएसपी दिनेश्वरी नंद का कहना है कि डीआरजी की महिला कमांडो से फोर्स को काफी लाभ मिला है. जो कभी तिरंगे का विरोध करती थीं, वे महिला नक्सली समर्पण के बाद अब तिरंगे को सलाम करती हैं. ऐसी कमांडो की टुकड़ी गणतंत्र दिवस पर जिले के मुख्य समारोह परेड का हिस्सा बन रही है.

 ये भी पढ़ें: 

 

अनोखा स्कूल: Saturday-Sunday को भी लगती है क्लास, दो टिफिन लेकर आते हैं बच्चे 

 

पिता ने 14 साल की नाबालिग बेटी से किया रेप, कोर्ट ने सुनाई ये सजा 

11वीं का छात्र 4 दिन से लापता, रोती मां ने कहा- नींद नहीं आती..लौट आओ बेटा! 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दंतेवाड़ा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 25, 2020, 6:41 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर