अपना शहर चुनें

States

6 माह से अटकी बिहान योजना, नाराज महिलाओं ने की बीजेपी के विरोध की घोषणा

बिहान योजना का लाभ ना मिलने से नाराज महिलाएं
बिहान योजना का लाभ ना मिलने से नाराज महिलाएं

धमतरी में नारी सशक्तिकरण से जुड़ी बिहान योजना अब भाजपा के लिए गले की हड्डी साबित हो रही है. जिला पंचायत और जन प्रतिनिधियों की लापरवाही के कारण योजना 6 माह से अटकी हुई है. योजना के लाभ से वंचित महिलाएं इतनी नाराज हैं कि चुनाव बहिष्कार और भाजपा के खिलाफ काम करने की चेतावनी दे रही हैं.

  • Share this:
धमतरी में नारी सशक्तिकरण से जुड़ी बिहान योजना अब भाजपा के लिए गले की हड्डी साबित हो रही है. जिला पंचायत और जन प्रतिनिधियों की लापरवाही के कारण योजना 6 माह से अटकी हुई है. योजना के लाभ से वंचित महिलाएं इतनी नाराज हैं कि चुनाव बहिष्कार और भाजपा के खिलाफ काम करने की चेतावनी दे रही हैं. चुनाव के ठीक पहले बिगड़ते माहौल से भाजपा हड़बड़ाई हुई है. पहले भाजपा के जिन नेताओं ने इन महिलाओं की समस्या को हल्के में लिया था विरोध की धमकी के बाद वही नेता हड़बड़ा गए हैं.

इस तरह की योजनाओं से चुनाव में महिलाओं के थोक में वोट मिलने की संभावना रहती है लेकिन अब उल्टा हो रहा है. उधर कांग्रेस ने भी इस मुद्दे पर निगाह रखी हुई है. धमतरी में साल 2018 की शुरूआत में ग्रामीण महिलाओं को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाने के लिए योजना आई जिसमें लगभग 80 फीसदी सब्सीडी के साथ इन महिलाओ को ई-रिक्शा दिया जाना तय हुआ. जिले भर के विभिन्न महिला स्वःसहायता समूहों से कुल 100 महिलाओं को चुना गया. इनको मुफ्त आवासीय प्रशिक्षण दिया गया और 40 महिलाओं को ई रिक्शा दे भी दिया गया.

यह बात 6 माह पुरानी है, उसके बाद मानो इस योजना की फाइल ही बंद हो गई. अब वंचित बाकी 60 महिलाएं 6 माह से जिला पंचायत, कलेक्टोरेट से लेकर नेता और मंत्रियों के चक्कर काट रही हैं जिला पंचायत ने हर बार इन महिलाओं को रिक्शा देने का वादा किया पर पूरा नहीं कर सका. भाजपा के नेता और मंत्री भी आश्वासन ही देते रहे. इससे इन महिलाओं के सब्र का प्याला छलक गया है. अब इन महिलाओं ने ऐलान कर दिया है कि अब अगर रिक्शा नहीं मिला और झूठा आश्वासन दिया तो वह चुनाव का बहिष्कार करेंगी. वहीं भाजपा के खिलाफ काम करेंगी.



यह भी पढ़ें - महज 20 वोटों से इस नगर पालिका अध्यक्ष ने बचाई अपनी कुर्सी
यह भी देखें - VIDEO: इस देवी मंदिर में भालू करते हैं माता की परिक्रमा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज