अपना शहर चुनें

States

छत्तीसगढ़ नगरीय निकाय चुनाव: महापौर बनने पार्षदी की जंग लड़ रहे दिग्गज

अप्रत्यक्ष महापौर चुनाव के कारण अब बड़े नेता छोटे चुनाव लड़ने को मजबूर हैं.
अप्रत्यक्ष महापौर चुनाव के कारण अब बड़े नेता छोटे चुनाव लड़ने को मजबूर हैं.

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के धमतरी (Dhamtari) नगर पालिका के दो बार अध्यक्ष रह चुके नेता जी को इस बार पार्षदी की जंग में उतरना पड़ा है.

  • Share this:
धमतरी. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के धमतरी (Dhamtari) नगर पालिका के दो बार अध्यक्ष रह चुके नेता जी को इस बार पार्षदी की जंग में उतरना पड़ा है. अप्रत्यक्ष महापौर (Mayor) चुनाव (Election) के कारण अब बड़े नेता छोटे चुनाव लड़ने को मजबूर हैं. इस जंग में छोटे नेता इन शूरवीरों को कड़ी टक्कर दे रहे हैं. मुकाबला दिलचस्प हो चला है. कहावत है कि दोस्ती, दुश्मनी और मुकाबला बराबर वालो में ही होना चाहिये. लेकिन इस बार धमतरी की राजनीति में ऐसा नहीं हो रहा है. यहां हिरणों के मुकाबले हाथियों को मैदान में उतरना पड़ा है.

धमतरी नगर पालिक निगम (Dhamtari Municipal Corporation) के ब्राह्मण पारा वार्ड से बीजेपी (BJP) के कद्दावर नेता डॉ. एनपी गुप्ता पार्षदी जीतने के लिये जद्दोजहद कर रहे हैं. ये दो बार नगर पालिका अध्यक्ष रह चुके हैं. गुप्ता जी को दरअसल बनना महापौर ही है, लेकिन बिना पार्षद बने महापौर नहीं बना जा सकता. इसलिये पहले पार्षदी की परीक्षा पास करने के लिये मेहनत कर रहे हैं, लेकिन बड़े नेता होने से छोटा चुनाव जीतना आसान नहीं हो जाता.

बड़े नेता की बड़ी परेशानी
डॉ. एनपी गुप्ता कहते हैं कि घर घर जाकर लोगों से मिलने का प्रयास किया जा रहा है. उनको जनता का समर्थन भी मिल रहा है. हालांकि हाई प्रोफाइल नेताओं कि कठिनाई तब और भी बढ़ जाती है, जब सामने खड़ा मुकाबिल सिर्फ पार्षद बनने की जंग लड़ रहा हो और पहले से डाउन टू अर्थ प्रोफाईल मेंटेन कर रहा हो. ब्राह्मणपारा वार्ड से कांग्रेस प्रत्याशी राजेश पांडेय का कहना है कि वे पिछले कई सालों से वार्ड की जनता से सीधे संपर्क में हैं, उनकी समस्याओं के निराकरण के लिए हमेशा तैयार रहते हैं. इन परिस्थितियो में धमतरी के वार्ड क्रमांक 15 यानी ब्राह्मण पारा वार्ड के मुकाबले पर सारे शहर की नजर है. इस वार्ड की जनसंख्या 45 सौ है. यहां मतदाता 22 सौ हैं. जातिगत समीकरण में इस वार्ड में सोनकर, कुम्हार और ब्राह्मण समाज के लोग ज्यादा संख्या में हैं.
ये भी पढ़ें:


नरवा-गरवा में ही गुम हो गया कांग्रेस सरकार का एक साल: पूर्व सीएम अजीत जोगी 

सीएम भूपेश बघेल बोले- NRC रजिस्टर में हस्ताक्षर नहीं करने वाला मैं पहला शख्स रहूंगा 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज