कोरोना: लॉकडाउन में काम नहीं था तो बना दी ऑटोमेटिक बॉडी सैनिटाइजर मशीन, अब इन्हें देंगे दान
Dhamtari News in Hindi

कोरोना: लॉकडाउन में काम नहीं था तो बना दी ऑटोमेटिक बॉडी सैनिटाइजर मशीन, अब इन्हें देंगे दान
युवा ने रचनात्मकता का परिचय दिया.

कोरोना (Corona) का संकट आज पूरे विश्व पर छाया हुआ है, लोग डरे हुए हैं, लेकिन इस बीच कुछ लोग रचनात्मक काम भी कर रहे हैं.

  • Share this:
धमतरी. कोरोना (Corona) का संकट आज पूरे विश्व पर छाया हुआ है, लोग डरे हुए हैं, लेकिन इस बीच कुछ लोग रचनात्मक काम भी कर रहे हैं. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के धमतरी जिले के युवक अमर सोनी ने कुछ ऐसा ही किया है. धमतरी में रहने वाले अमर सोनी किचन एप्लाइंसेस का काम करते हैं. मसलन रसोई में चिमनी लगाना, वाटर फ़िल्टर लगाना, रिपेयर करना. लेकिन बीते लगभग 2 माह से लॉकडाउन के चलते काम रुका हुआ है. ऐसे में अमर ने अपने पास उपलब्ध कुछ इलेक्ट्रिक मोटर, पाइप, सेंसर और अलुमिनियम का इस्तेमाल कर ऑटोमेटिक बॉडी सैनिटाइजर मशीन बना दिया.

अमर का दावा है कि उन्होंने एक फूली ऑटोमैटिक बॉडी सेनिटाइजर मशीन बनाई है, जो बिजली से चलती है. इसके अंदर जाते ही ये अपने आप चालू हो जाती है. सेनिटाइजर की बौछार होने लगती है. महज कुछ सेकंड में ही एक आदमी सेनिटाइज हो जाता है. ये एक तरह से सैनेटाइजर टनल है.

समय और लागत दोनों में किफायती
अमर सोनी ने बताया कि इस मशीन को बनााने में 20 से 22 हज़ार रुपये का खर्च आया और महज 48 घंटे में ये तैयार हो सकता है. जबकि तरह के बाजार में मिलने वाले आॅटोमैटिक मशीन काफी महंगे मिलते हैं, इस मशीन को अमर ने अपने घर के बरामदे में ही तैयार कर डाला वो भी सिर्फ एक सहयोगी का साथ लेकर तैयार किया है.
जन सेवा की भावना से बनाई मशीन


अमर ने बताया कि जब हर जगह कोरोना से लड़ने के लिए सेनिटाइजर जरूरी हो गया है. आम तौर पर हर वक्त हर किसी के पास सेनिटाइजर उपलब्ध नहीं हो पाता और अस्पतालों में संक्रमण का खतरा भी ज्यादा रहता है. इस समस्या का एक हल निकालने का ख्याल मन में आया और यू ट्यूब से कुछ वीडियो खंगालने के बाद सबकुछ स्पष्ट हो गया और ये मशीन पूरी हो सकी. अब अमर इस मशीन को कलेक्टर को दान करना चाहते हैं. ताकि जिस उद्देश्य से इसे बनाया गया है वहाँ ये लग सके और आम लोगों के काम आ सके. हालांकि इस मामले में धमतरी के मुख्य जिला चिकित्सा अधिकारी डॉ. डीके तुर्रे ने बताया की टनल सेनीटाइजर से बेहतर हैंड सेनीटाइजर को ही माना जाता है. क्योंकि तरण सैनिटाइजर से सैनिटाइजेशन हुआ या नहीं हुआ या कितना हुआ इसका पता नहीं लग पाता है.

ये भी पढ़ें:
Weather Alert: छत्तीसगढ़ में 15 मई तक हो सकती है बे-मौसम बारिश, आकाशीय बिजली से रहें सतर्क

छत्तीसगढ़: लॉकडाउन में दुकानें खोलने को लेकर हुए बड़े बदलाव, मुश्किल से बचने पढ़ें ये खबर
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज