राशन कार्ड और पेंशन के लिए महीनों से भटक रहा दिव्यांग

अपना हक पाने के लिए लवकेश ने पंचायत से लेकर जिला प्रशासन तक महीनों चक्कर काटे. लेकिन अभी तक इस मजबूर को आश्वासन के अलावा कुछ नहीं मिला.

Abhishek Pandey | News18 Chhattisgarh
Updated: September 11, 2018, 6:44 PM IST
राशन कार्ड और पेंशन के लिए महीनों से भटक रहा दिव्यांग
धमतरी में दिव्यांग को नहीं मिल रही मदद.
Abhishek Pandey | News18 Chhattisgarh
Updated: September 11, 2018, 6:44 PM IST
सरकार भले ही दिव्यांगों के कल्याण का दावा करती हो लेकिन धमतरी के दिव्यांग लवकेश की माने तो सरकार के सारे दावों की हवा एक झटके में निकल जाती है. छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले के मगरलोड ब्लॉक के मोहेरा का लवकेश के हाथ नहीं है. उसे बोलने में भी तकलीफ है. मेडिकल बोर्ड ने उसे 80 फीसदी विकलांगता का प्रमाण पत्र भी दिया है. लवकेश के परिवार में 5 सदस्य है. पूरा परिवार रोजी मजदूरी कर अपना घर चलता है. ऐसे में लवकेश को सरकार के मदद की सख्त जरूरत है. जिससे वो दूसरों पर निर्भर रहना कम कर सके.

राज्य सरकार दिव्यांगों के लिए कई योजनाएं चला रखी है. लेकिन लवकेश बीते कई माह से एक राशनकार्ड और दिव्यांग पेंशन के लिए भटक रहा है. अपना हक पाने के लिए लवकेश ने पंचायत से लेकर जिला प्रशासन तक महीनों चक्कर काटे. लेकिन अभी तक इस मजबूर को आश्वासन के अलावा कुछ नहीं मिला. अब लवकेश ने फिर एक बार कलेक्टर से मदद की गुहार लगाई है. मामले में कलेक्टर सीआर प्रसन्ना का कहना है कि हमारी तरफ से लवकेश को हर संभव मदद की जाएगी.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर