Assembly Banner 2021

मांदा गिरी मुठभेड़ में मारे गए नक्सली के परिजनों ने शव लेने से किया इंकार

मांदा गिरी मुठभेड़ में मारे गए नक्सली के परिजनों ने शव लेने से किया इंकार

मांदा गिरी मुठभेड़ में मारे गए नक्सली के परिजनों ने शव लेने से किया इंकार

धमतरी के मांदा गिरी मुठभेड़ में मारे गए 5 लाख के इनामी नक्सली जय सिंह का शव लेने से उसके परिजनों ने इनकार कर दिया है.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ में धमतरी जिले के मांदा गिरी मुठभेड़ में मारे गए 5 लाख के इनामी नक्सली जय सिंह का शव लेने से उसके परिजनों ने इनकार कर दिया है. अब पुलिस ही नक्सली जय सिंह के शव का अंतिम संस्कार करेगी. नियमों के मुताबिक जय सिंह के शरीर के कुछ हिस्से सुरक्षित रखे जाएंगे, ताकि भविष्य में जरूरत पड़ने पर डीएनए मिलान किया जा सके. बता दें कि पुलिस ने जय सिंह के परिवार से संपर्क कर शव ले जाने की अपील की थी, लेकिन परिजनों ने साफ मना कर दिया. परिजन शव को देखने के बाद घर वापस लौट गए. मामले की जानकारी धमतरी एसपी रजनेश सिंह ने दी है.

एसपी रजनेश सिंह ने बताया कि जय सिंह राजनांदगांव के मानपुर का रहने वाला था. करीब 12 साल पहले वह माओवादी बन गया था और कुछ साल से गोबरा एलओएस के कमांडर के तौर पर काम कर रहा था. नक्सली पर पुलिस ने 5 लाख का इनाम भी घोषित किया था. अब वो इनाम की राशि एनकाउंटर करने वाली कोर टीम और जय सिंह की सूचना देने वाले तंत्र में बांट दिया जाएगा. पुलिस के मुताबिक जय सिंह आगामी चुनावों को प्रभावित करने के लिए किसी योजना पर काम कर रहा था. इसके लिए वह लगातार बैठकें भी कर रहा था, लेकिन इसकी भनक पुलिस को लगी और मौके पर दबिश देकर पुलिस ने नक्सली को मार गिराया गया.

बहरहाल, जय सिंह की मौत से बेशक पुलिस की बड़ी कामयाबी मिली हो, लेकिन अब पुलिस को और भी सतर्क रहने की जरूरत है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज