धमतरी: रेत माफिया का पंचायत सदस्य पर जानलेवा हमला, डंडे और तलवार से वार, 4 घायल
Dhamtari News in Hindi

धमतरी: रेत माफिया का पंचायत सदस्य पर जानलेवा हमला, डंडे और तलवार से वार, 4 घायल
पुलिस मामले की जांच की बात कर रही है. (सांकेतिक चित्र)

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मनीषा ठाकुर रावटे ने बताया कि अवैद खनन का विरोध करने पर जानलेवा हमला कर दिया गया. इसकी जांच शुरू हो चुकी है.

  • Share this:
धमतरी.  धमतरी (Dhamtari) जिले के रेत खदानों में अब खुलेआम गुंडागर्दी होने लगी है. जोरातराई इलाके में गुरुवार रात अवैध खनन रूकवाने गए जिला पंचायत सदस्य पर जानलेवा हमला किया गया. हमले में जिला पंचायत सदस्य खूबलाल ध्रुव सहित 4 लोगों को गंभीर चोट आई है. गुरुवार रात जब जिला पंचायत सदस्य अपने 30 साथियों के साथ खदान पहुंचे और मशीन से चल रही खुदाई रोकने की कोशिश की तो उन पर तलवार, लाठी और डंडे से हमला किया गया. इतना ही नहीं आरोप ये भी है कि उन्हें कमरे में बंद कर कई घंटे तक पीटा भी गया.

इस हमले में जिला पंचायत सदस्य का एक हाथ टूट गया और शरीर पर जगह-जगह मारपीट के निशान भी है. वहीं उनके साथ हमले का शिकार हुए लोगों के चेहरे और पीठ पर भी गंभीर जख्म देखे जा सकते हैं. घायल खूबलाल ने बताया कि जो लोग पहले शराब ठेका चलाते थे वही लोग अब रेत खदानों को चला रहा हैं. कहा जा रहा है कि इनमें यूपी, बिहार और पंजाब के गुंडे तत्व शामिल हैं जिन्होंने लाठी, रॉड और तलवारों से हमला किया. जिला पांचायत सदस्य के मुताबिक खदानों में नियम के खिलाफ मजदूरों की जगह मशीनों से काम लिया जा रहा है. इसके खिलाफ अभियान चलाया जा रहा था.

इससे पहले भी मजदूरों की हो चुकी है पिटाई



इस घटना के दो दिन पहले ही जिले के मंदरौद खदान में ठेकेदारों ने मजदूरों से मारपीट की थी. मजदूरों ने इस मामले की शिकायत सीधे प्रभारी मंत्री कवासी लखमा से की थी और कारर्वाई की मांग की थी. हालांकि अभी तक उस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की गई है.
ये भी पढ़ें: AIIMS PG 2020 : एंट्रेंस एग्जाम का रिजल्ट जारी, यहां चेक करें पूरी जानकारी

सरकारी आदेश कागजों तक

दरअसल, सरकार ने बरसात को देखते हुए आदेश जारी किया है कि 15 जून से 15 अक्टूबर तक तमाम रेत खदानें बंद रखी जाएंगी. लिहाजा इस बीच खदानों से उत्खनन नहीं किया जा सकता, लेकिन ये आदेश कागजों तक ही सीमित है. इसके अलावा बार-बार गुंडागर्दी और अवैध उत्खनन की शिकायतें साफ दिखा रही है कि खनिज विभाग का खदानों में कोई नियंत्रण नहीं है. खदान अब माफिया चला रहा है जिसे किसी कानून का डर नहीं है.

ये भी पढ़ें: COVID-19 Update: दिल्ली में कोरोना का नया रिकॉर्ड, 24 घंटे में 2877 नए केस, 65 की मौत

पुलिस मामले की जाच में जुटी

हालांकि जोरातराई की घटना कुरूद थाना क्षेत्र की है, लेकिन पीड़ितों ने इसकी शिकायत रूद्री थाना जाकर की. अब पुलिस ने इस मामले में जांच शुरू कर दी है. जिले की अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मनीषा ठाकुर रावटे ने बताया कि अवैद खनन का विरोध करने पर जानलेवा हमला कर दिया गया. इसकी जांच शुरू हो चुकी है. दोषियों पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज