Home /News /chhattisgarh /

धमतरी: सेना लेकर आई स्वर्णिम मशाल, सम्मान करने न कलेक्टर-एसपी आये, न ही BJP विधायक

धमतरी: सेना लेकर आई स्वर्णिम मशाल, सम्मान करने न कलेक्टर-एसपी आये, न ही BJP विधायक

धमतरी में सेना ने स्वर्णिम मशाल लेकर पहुंची.

धमतरी में सेना ने स्वर्णिम मशाल लेकर पहुंची.

भारतीय सेना (Indian Army) के शहीदों और विजय के सम्मान में स्वर्णिम मशाल रैली पूरे देश मे घुमाई जा रही है. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के धमतरी में भी भारतीय सेना ये मशाल लेकर आई. लेकिन प्रशासन और जनप्रतिनिधियों ने इस रैली को लेकर कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई.

अधिक पढ़ें ...

धमतरी. 1971 में पाकिस्तान (Pakistan) पर भारतीय सेना (Indian Army) की ऐतिहासिक विजय हुई थी और पाकिस्तान के दो टुकड़े हो गए. इसके बाद बांग्लादेश का जन्म हुआ. ये सब भारतीय फौज के पराक्रम का परिणाम था. ये साल उस जीत की स्वर्ण जयंती वर्ष है. सेना के शहीदों और विजय के सम्मान में स्वर्णिम मशाल रैली पूरे देश मे घुमाई जा रही है. छत्तीसगढ़ के धमतरी में भी बीते मंगलवार को भारतीय सेना ये मशाल लेकर आई. शहर के गांधी मैदान में सशत्र सलामी और राष्ट्रगान के साथ मशाल को सलामी दी गई. इस बीच 71 के युद्ध मे लड़ चुके पूर्व सैनिकों का भी सम्मान किया गया. करीब 25 साल पहले रिटायर्ड हो चुके सैनिकों ने युद्ध के किस्से सुनाए. मशाल के सम्मान के बाद भारतीय फौज उसे अगले पड़ाव की ओर लेकर बढ़ गई.

धमतरी के लिए ये खासे गौरव का विषय रहा कि मशाल का सम्मान और पूर्व सैनिकों का सम्मान बेहद अहम कार्यक्रम था. राष्ट्रीय अस्मिता का भी विषय रहा,  लेकिन इसे शर्मनाक कहें या दुर्भाग्यपूर्ण कि इस कार्यक्रम में न तो जिले के कलेक्टर आये न एसपी ने आना जरूरी समझा और तो और धमतरी जिले से एक भी विधायक नहीं आये. सिवाव धमतरी महापौर विजय देवांगन के एक भी जन प्रतिनिधि इस कार्यक्रम में शामिल नहीं हुआ. छोटे छोटे धरना प्रदर्शन में भीड़ लेकर पहुंचने वाले कांग्रेस-बीजेपी के नेता इस देश और सेना के सम्मान के मौके पर नदारद रहे. सिवा कांग्रेस नेता और महापौर विजय देवांगन के अलावा कोई जनप्रतिनिधि नजर नहीं आया.

नहीं दिखा कोई भाजपाई
देशभक्ति, राष्ट्रीय गौरव, सेना के सम्मान पर हर मंच में अपनी पीठ ठोंकने वाले भाजपा के एक भी नेता का चेहरा इस कार्यक्रम में शुरू से आखिरी तक नहीं दिखा. यहां तक कि भाजपा से चुनी गई स्थानीय विधायक रंजना साहू ने भी इस कार्यक्रम में आना जरूरी नहीं समझा. लोग एक दूसरे से पूछते रहे कि आखिर जिले के प्रमुख अधिकारी और नेता कैसे नहीं आये. जिले के प्रशासन और राजनीति के प्रमुख लोगों द्वारा कार्यक्रम की अनदेखी से लोगों मे काफी नाराजगी दिखाई दी. कुछ लोगों ने तो खुल कर अपना गुस्सा जाहिर किया.

स्थानीय नागरिक और प्रसिद्ध रंगमंच कलाकार आकाश गिरी गोस्वामी प्रमुखों की अनुपस्थिति को शर्मसार करने वाला बताया और सवाल किया कि आखिर वो कौन सा जरूरी काम था जिसे छोड़ कर देश के सम्मान के लिए नेता और अधिकारी समय नहीं निकाल सके?  इस मामले में धमतरी महापौर और कांग्रेस नेता विजय देवांगन ने माना कि प्रमुख लोगो को थोड़ा समय निकाल कर शामिल होना चाहिए था.

Tags: BJP Congress, Dhamtari, Indian army, Madhya pradesh news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर