छत्तीसगढ़ का इकलौता नैक ए ग्रेड इंजीनियरिंग कॉलेज बना बीआईटी

Neelesh Tripathi | News18Hindi
Updated: September 14, 2017, 2:05 PM IST
छत्तीसगढ़ का इकलौता नैक ए ग्रेड इंजीनियरिंग कॉलेज बना बीआईटी
नैक ग्रेड का प्रमाण पत्र लेता बीआईटी दुर्ग कॉलेज प्रबंधन
Neelesh Tripathi | News18Hindi
Updated: September 14, 2017, 2:05 PM IST
छत्तीसगढ़ के नामी इंजीनियरिंग कॉलेजों में नंबर—1 पोजिशन वाला बीआईटी (भिलाई इंस्टीट्यूटी आॅफ टेक्नोलॉजी) दुर्ग को नैक की ए ग्रेडिंग मिली है. नैक (नेशनल एसेसमेंट एंड एक्रीडिएशन काउंसिल) ने बुधवार 13 सितंबर को बीआईटी का ग्रेड जारी किया है.
बीआईटी दुर्ग ने इस सत्र यूजीसी नैक ग्रेडिंग के लिए आवेदन किया था.
इस पर 21 से 23 अगस्त तक नैक की पांच सदस्यीय टीम ने बीआईटी दुर्ग का निरीक्षण किया. टीम ने नैक के तय मापदंड के आधार पर विभिन्न बिंदुओं पर जांच की. इसके बाद 13 सितंबर को ग्रेडिंग जारी की गई.
बीआईटी प्रबंधन का दावा है कि प्रदेश में संचालित इंजीनियरिंग कॉलेजों में उनका संस्थान पहला है, जिसे नैक की ए ग्रेडिंग मिली है. आपको बता दें कि संस्थान में बेहतर परीक्षा परिणाम, उपलब्ध संसाधन, रिसर्च वर्क, टीचिंग स्टाफ का क्वालिफिकेशन सहित अन्य मानकों को आधार कर नैक ग्रेडिंग दी जाती है.
गौरतलब है कि प्रदेश में इंजीनियरिंग कॉलेजों में दाखिले का ग्राफ लगातार गिरते जा रहा है. सत्र—2017—18 में कुल बीस ह​जार सीटों में से करीब 5 हजार 700 सीटों पर ही दाखिले हुए हैं. ऐसी स्थिति में भी शासकीय इंजीनियरिंग कॉलेजों को छोड़कर बीआईटी प्रदेश का इकलौता इंजीनियरिंग कॉलेज है, जिसमें इस सत्र 95 प्रतिशत से अधिक सीटों पर एडमिशन हुए हैं.

बीआईटी के प्राचार्य डॉ. अरुण अरोरा ने बताया कि 13 सितंबर को नैक के सदस्यों ने उन्हें कॉलेज को ए ग्रेड का प्रमाण पत्र दिए हैं. आगामी पांच वर्ष के लिए यह ग्रेड मिला है.
आपको बता दें कि बीआईटी छत्तीसगढ़ का पहला इंजीनियरिंग कॉलेज है, जिसे पीपीपी (पब्लिक, प्राइवेट पार्टनरशिप) मॉडल के तहत संचालित किया जाता है. इस कॉलेज में दाखिला लेना छात्रों की प्राथमिकता रहती है.
First published: September 14, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर