लाइव टीवी

CM भूपेश बघेल बने टीचर, चलाया भौंरा, स्कूली बच्चों को पढ़ाई ये पाठ

Mithilesh Thakur | News18 Chhattisgarh
Updated: September 19, 2019, 3:50 PM IST
CM भूपेश बघेल बने टीचर, चलाया भौंरा, स्कूली बच्चों को पढ़ाई ये पाठ
सीएम भूपेश बघेल एक सरकारी स्कूल में टीचर की भूमिका में नजर आए. सीएम ने नये लर्निंग आउटकम के तरीकों से बच्चों की क्लास ली.

‘नींव और भाषा पिटारा’ कार्यक्रम में सीएम भूपेश बघेल (CM Bhupesh baghel) शिक्षक बनकर बच्चों को ‘चलब भौंरा चलाबो’ की कहानी सुनाई.

  • Share this:
दुर्ग: छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (CM Bhupesh Baghel) का एक नया रूप दुर्ग जिले के भिलाई में देखने को मिला. सीएम भूपेश बघेल एक सरकारी स्कूल में टीचर (Teacher) की भूमिका में नजर आए. सीएम ने नये लर्निंग आउटकम के तरीकों से बच्चों की क्लास (Class) ली. इसके अलावा उन्होंने भौरा भी खेला. भिलाई (Bhilai) में गुरुवार को स्कूल शिक्षा विभाग और लैग्वेज लर्निंग फांउडेशन द्वारा आयोजित ‘नींव और भाषा पिटारा’ कार्यक्रम का आयोजन किया गया था.

‘नींव और भाषा पिटारा’ कार्यक्रम में सीएम भूपेश बघेल (CM Bhupesh baghel) शिक्षक बनकर बच्चों को ‘चलब भौंरा चलाबो’ की कहानी सुनाई. उनके कहानी सुनाने का अंदाज बिल्कुल नये लर्निंग आउटकम के तरीकों पर आधारित था. उन्होंने बच्चों से पहले भौंरा के बारे में बताया. फिर कहा कि अगर भौंरा (लट‌्टू) दो और बच्चे तीन हों तो कैसे खेलोगे. ऐसी ही दिक्कत हेमा, भोला और केशव के साथ थी. मुख्यमंत्री ने बच्चों से पूछा बताओ आप होते तो कैसे खेलते. फिर बताया कि पहले दो बच्चे खेलेंगे, जिसका भौंरा पहले गिरेगा वो तीसरे को दे देगा.

chhattisgarh, Bhupesh Baghel
छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का एक नया रूप दुर्ग जिले के भिलाई में देखने को मिला.


सीएम ने चलाया भौंरा

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जब स्वयं भौंरा चलाया तो सभी बच्चे खुशी से झूम उठे. सीएम ने आज वैशाली नगर भिलाई के शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में नींव और भाषा पिटारा कार्यक्रम का शुभारंभ किया. उन्होंने यहां अटल टिंकरिंग लैब के लोकार्पण के साथ ही सोया मिल्क का वितरण शुरू किया. इसके साथ ही नींव कार्यक्रम संबंधित सामग्री और भाषा पिटारा का विमोचन करते हुए नींव कार्यक्रम की कक्षा का अवलोकन किया. सीएम बघेल कार्यक्रम के दौरान प्राथमिक शाला के बच्चों को छत्तीसगढ़ी में भौंरा नामक पाठ पढ़ाया और बच्चों के साथ भौंरा चलाने की गतिविधि और किसका भौंरा ज्यादा देर तक टिक पाता है. यह सब करते हुए भाषा और गणित को एक साथ कैसे पढ़ाया जाता है इसका एक आदर्श पाठ बच्चों के साथ रोचक तरीके से प्रस्तुत किया.

ये भी पढ़ें: खुलासा: अतंगगढ़ उपचुनाव में 6 प्रत्याशियों को था 1-1 करोड़ रुपये का ऑफर, मिले सिर्फ 50 हजार 

ये भी पढ़ें: मुख्यमंत्री से मिलने पहुंचे फरियादी की CM हाउस में कटी जेब, थाने में शिकायत दर्ज 
Loading...

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुर्ग से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 19, 2019, 3:50 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...