Assembly Banner 2021

कोराना: पुणे में कल से 12 घंटे का कर्फ्यू, छत्तीसगढ़ के दुर्ग में लगेगा लॉकडाउन

कोरोना के कहर को देखते हुए पुणे में नाइट कर्फ्यू लगा दिया गया है. (फोटो साभार-News18 English)

कोरोना के कहर को देखते हुए पुणे में नाइट कर्फ्यू लगा दिया गया है. (फोटो साभार-News18 English)

Night Curfew In Pune: धार्मिक स्थल, होटल व बार, शॉपिंग माल और फिल्म थियेटर अगले सात दिन तक बंद रहेंगे.

  • Share this:
पुणे. देश के कई राज्यों में एक बार फिर से कोरोना संक्रमण (Coronavirus) का विस्फोट देखने को मिल रहा है. महाराष्ट्र के कई जिलों में संक्रमण का भारी प्रकोप देखने को मिल रहा है, तो छत्तीसगढ़ के दुर्ग में भी राज्य सरकार ने लॉकडाउन का ऐलान किया है. उधर, महाराष्ट्र के पुणे में प्रशासन ने 12 घंटे के कर्फ्यू का ऐलान किया है. ये कर्फ्यू शाम के 6 बजे से सुबह के 6 बजे तक लगेगा और इस दौरान सिर्फ डिलीवरी की इजाजत रहेगी. नई पाबंदियां एक हफ्ते तक जारी रहेंगी और अगले शुक्रवार को प्रशासन द्वारा हालात की समीक्षा के बाद नए कदमों का ऐलान होगा. धार्मिक स्थल, होटल और बार, शॉपिंग माल और फिल्म थियेटर अगले सात दिन तक बंद रहेंगे. पुणे के डिवीजनल कमिश्नर सौरभ राव ने इस बारे में जानकारी दी है. छत्तीसगढ़ में दुर्ग जिला प्रशासन ने जिले में छह अप्रैल से 14 अप्रैल तक लॉकडाउन करने का फैसला किया है.

होम डिलीवरी की अनुमति
उन्होंने कहा कि इस दौरान खाने योग्य सामान, दवाएं और आवश्यक सामानों की होम डिलीवरी की अनुमति रहेगी. देश के सबसे ज्यादा संक्रमित इलाकों में पुणे सर्वाधिक प्रभावित है. महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने शुक्रवार को चेताया था कि अगर एक सप्ताह में पुणे में कोविड-19 की स्थिति में सुधार नहीं होता है तो ‘कड़े कदम’ उठाए जाएंगे. उप मुख्यमंत्री ने लोगों को कोविड-19 प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करने को कहा. उन्होंने मास्क लगाने, दो गज की दूरी बनाए रखने और बार-बार हाथ धोने पर फिर से जोर दिया. उन्होंने कहा कि संक्रमण के बढ़ते मामलों के मद्देनजर राज्य ने निजी अस्पतालों के 50 प्रतिशत बिस्तरों को अपने नियंत्रण में लेने का फैसला लिया है.

Youtube Video

उप मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘हमने पुणे में विशाल अस्पताल और पिम्पड़ी चिंचवड़ में बड़ा सुविधा केन्द्र शुरू किया है जो अप्रैल से संचालित होगा. हम शहर में भी कोविड-19 केन्द्र शुरू कर रहे हैं.’’ उन्होंने बताया, ‘‘आपात स्थिति को ध्यान में रखते हुए हम रायगढ़ के ऑक्सीजन प्लांट के साथ बातचीत कर रहे हैं.’’ उन्होंने बताया कि जिले में टीकाकरण केन्द्रों की संख्या दोगुनी करने की भी योजना है.



दुर्ग कलेक्टर ने कहा- घर में रहें, सुरक्षित रहें
दुर्ग जिला प्रशासन के अधिकारियों ने शुक्रवार को यहां बताया कि जिले में कोरोना वायरस संक्रमण की स्थिति को देखते हुए जिला प्रशासन ने छह अप्रैल से 14 अप्रैल तक पूरे जिले में लॉकडाउन का निर्णय लिया है. अधिकारियों ने बताया कि कलेक्टर सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे ने लोगों से अपील की है कि घर में रहें, सुरक्षित रहें. उन्होंने 45 वर्ष से अधिक आयु के सभी नागरिकों से नजदीकी टीकाकरण केंद्र पहुंचकर टीका लगवाने का आग्रह किया है.

उन्होंने नागरिकों से कहा कि कोरोना के लक्षण उभरते ही जांच कराएं. साथ ही संक्रमण की पुष्टि होने पर चिकित्सक की सलाह के अनुसार कदम उठाएं. दुर्ग जिले में बृहस्पतिवार तक 40,068 लोगों में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि की गई है. 9,883 मरीजों का इलाज किया जा रहा है.

जिले में कोरोना वायरस से संक्रमित 754 लोगों की मृत्यु हुई है. जिले में पिछले दो सप्ताह के दौरान 10,295 नए मामले सामने आए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज