दुर्ग पुलिस ने पकड़े अंतरराज्‍यीय ठग गिरोह के 4 सदस्‍य

दुर्ग पुलि‍स ने चार ऐसे ठगों को गिरफ्तार किया है, जो फर्जी कंपनी के पंजीयन के आधार पर व्यापारियों से एडवांस ले लिया करते थे, वहीं दलाल के माध्यम से व्यापारियों के लिए बुक किए माल को दूसरे को बेच दिया करते थे.

Mithilesh Thakur | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: March 14, 2018, 6:31 PM IST
दुर्ग पुलिस ने पकड़े अंतरराज्‍यीय ठग गिरोह के 4 सदस्‍य
ठगी के गिरफ्तार आरोपी.
Mithilesh Thakur
Mithilesh Thakur | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: March 14, 2018, 6:31 PM IST
छत्‍तीसगढ़ में दुर्ग जिला पुलिस ने एक अंतरराज्‍यीय ठग गिरोह के चार सदस्यों को गिरफतार किया है. पकड़े गए आरोपी फर्जी इंडस्‍ट्री का पंजीयन करवाकर व्यापारियों को ठगने का कार्य कर रहे थे.

आरोपियों ने भिलाई के हथखोज स्थित सांई इन्फ्रा इंडिया प्राइवेट लिमिटेड को करीब 150 टन लोहे की चादर का खरीदने का ऑर्डर दिया और कंपनी का विश्वास जीतने के लिए इन्होंने बाकायदा 24 लाख रुपए एडवांस दे दिए. ऑर्डर की सप्‍लाय के बाद बकाया 48 लाख रुपयों के लिए टालमटोल करते रहे. तंग आकर जब कंपनी मालिक ने पुणे के दिए गए पते पर कंपनी अनुराग इंण्डस्ट्री की जानकारी ली तो वो कंपनी ही फर्जी निकली.

सांई कंपनी को ठगी का अहसास होने के बाद कंपनी प्रबंधन ने इस मामले की रिपोर्ट पुरानी भिलाई में की. इसके बाद जांच में जुटी पुलिस को अब कामयाबी मिली है. पुलिस ने मोबाइल नंबर के आधार पर चारों आरोपियों को महाराष्ट्र के पुणे से गिरफ्तार किया.

पुलिस की मानें तो मुख्य आरोपी रवि पनवर पुणे की एक कम्पनी में कार्य करता था. इसके बाद उसने दूसरे राज्य के व्यापारियों को विश्वास में लेकर ठगी करने का विचार बनाया. पकड़े गए आरोपियों में रवि पनवर के साथ ही किशोर बापू, दीपक किशोरी और बशीद इस्माइल शामिल हैं. आरोपियों ने पुलिस को बताया कि वे अनुराग इंडस्ट्री, आरुष इंडस्ट्री, ओमकार इंडस्ट्री के नाम से फर्जी पंजीयन करवाकर व्यापारियों से एडवांस ले लिया करते थे, वहीं दलाल के माध्यम से व्यापारियों के लिए बुक किए माल को दूसरे को बेच दिया करते थे. अपने इसी फर्जीवाड़े के जरिये जालसाजों ने कई व्यापारियों को फसाकर करोड़ों का चूना लगाया.

पुलिस चारों के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर उनसे पूछताछ कर रही है. उसने यह संभावना जताई है कि पूछताछ में करोड़ों की ठगी के कई और मामलों का खुलासा हो सकता है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
-->
काउंटडाउन
काउंटडाउन 2018 विधानसभा चुनाव के नतीजे
2018 विधानसभा चुनाव के नतीजे