लाइव टीवी

परिवीक्षा अवधि भी पूरी नहीं करने वाले पियूष बने सीएसवीटीयू के एक्जाम कंट्रोलर
Durg News in Hindi

निलेश त्रिपाठी | News18Hindi
Updated: January 5, 2018, 11:24 AM IST
परिवीक्षा अवधि भी पूरी नहीं करने वाले पियूष बने सीएसवीटीयू के एक्जाम कंट्रोलर
CSVTU Demo Pic

छत्तीसगढ़ की एक मात्र टेक्निकल यूनिवर्सिटी सीएसवीटीयू भिलाई में एक्जाम कंट्रोलर बदल गए हैं. डॉ. पियूष लोटिया सीएसवीटीयू के नए एक्जाम कंट्रोलर होंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 5, 2018, 11:24 AM IST
  • Share this:
छत्तीसगढ़ की एक मात्र टेक्निकल यूनिवर्सिटी सीएसवीटीयू (छत्तीसगढ़ स्वामी विवेकानंद टेक्निकल यूनिवर्सिटी), भिलाई में एक्जाम कंट्रोलर बदल गए हैं. डॉ. पियूष लोटिया सीएसवीटीयू के नए एक्जाम कंट्रोलर होंगे. तकनीकी शिक्षा छत्तीसगढ़ शासन ने नियुक्ति के संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं. डॉ. लोटिया के एक्जाम कंट्रोलर बनाए जाने को लेकर सवाल खड़े होने लगे हैं.

डेढ़ पहले ही सरकारी सेवा में आए डॉ. पियूष लोटिया की परिवीक्षा अ​वधि भी खत्म नहीं हुई है. न ही उन्हें परीक्षा नियंत्रण करने का कोई विशेष अनुभव है. इसके बाद भी 1 लाख छात्र से अधिक संख्या वाली प्रदेश की इकलौती टेक्निकल यूनिवर्सिटी में परीक्षा नियंत्रक जैसी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी उन्हें दे दी गई है.

किसी भी यूनिवर्सिटी में एक्जाम कंट्रोलर का कार्य अति गोपनिय कार्यों की श्रेणी में आता है.
प्रश्न पत्रों का रख-रखाव, वितरण, परीक्षा केन्द्रों से उत्तर पुस्तिका जांच केन्द्र तक पहुंचवाने, कॉपियां जंचवाने सहित परीक्षा परिणाम घोषित करने तक के कार्यों पर सीधे तौर पर एक्जाम कंट्रोलर का नियंत्रण होता है. यूनिवर्सिटी में इसे सबसे महत्वपूर्ण व जिम्मेदारी वाला पद माना जाता है.



यूनिवर्सिटी में सबसे महत्वपूर्ण पदों में से एक एक्जाम कट्रोलर के पद पर बगैर अनुभव वाले व्यक्ति की नियुक्ति सवालों के घेरे में है. डॉ. पियूष लोटिया वर्तमान में जगदलपुर कोएट पॉलीटेक्निक में इलेक्ट्रिकल विभाग में बतौर विभागाध्यक्ष पदस्थ हैं. इनकी जगह सीएसवीटीयू के वर्तमान एक्जाम कंट्रोलर एडी पाटिल को नियुक्त किया गया है.



सीएसवीटीयू के कुलसचिव डीएन सिरसांत ने बताया कि शासन का आदेश उन्हें मिला है. जल्द ही वर्तमान एक्जाम कंट्रोलर एडी पाटिल को रीलिव किया जाएगा. बगैर अनुभव वाले को महत्वपूर्ण जिम्मेदारी देने पर सिरसांत ने कहा कि शासन का आदेश है तो कुछ नहीं कह सकते.

इसलिए भी उठ रहे हैं सवाल
मिली जानकारी अनुसार सरकारी सेवा में आने से पहले डॉ. पियूष लोटिया भिलाई के ही श्री शंकराचार्य टेक्निकल कैंपस (एसएसटीसी) में लंबी सेवाएं दे चुके हैं. प्रदेश की तकनीकी शिक्षा में इस समूह का दबदबा माना जाता है. ऐसे में उसी समूह में लंबी सेवाएं देने वाले नियुक्ति यूनिवर्सिटी में महत्वपूर्ण पदों पर करना सवालों के घेरे में है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुर्ग से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 5, 2018, 11:19 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading