लाइव टीवी

भिलाई नरबलि कांड में SC का फैसला- 'तांत्रिक' दंपति को फांसी की सज़ा

Mithilesh Thakur | News18 Chhattisgarh
Updated: October 5, 2019, 11:42 AM IST
भिलाई नरबलि कांड में SC का फैसला- 'तांत्रिक' दंपति को फांसी की सज़ा
सुप्रीम कोर्ट ने आरोपियों की फांसी की सजा बरकरार रखी है. (Demo Pic)

प्रकरण की सुनवाई के दौरान मानवीय दृष्टिकोण और रिकाॅर्ड में लाए गए साक्ष्यों के आधार अदालत ने इसे रेयरेस्ट ऑफ रेयर केस मानते हुए फैसला दिया गया.

  • Share this:
दुर्ग. छत्तिसगढ़ के भिलाई (Bhilai) स्थित रुआबांधा बस्ती में हुए नरबलि प्रकरण के आरोपियों को दी गई फांसी की सजा को सुप्रीम कोर्ट ने सही माना है. सुप्रीम कोर्ट की तीन सदस्यीय खंडपीट ने हाईकोर्ट के फैसले को न्यायसंगत पाया. इस फैसले के बाद अब कथित तांत्रिक इश्वर लाल यादव और उसकी पत्नी किरण बाई को मौत की सजा होगी. दंपति ने दो साल के बच्चे का अपहरण कर उसकी बलि दे दी थी. बता दें कि इस मामले में सात आरोपियों को तत्कालीन जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने मार्च 2014 में फांसी की सजा सुनाई थी. अब सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के इस फैसले को बरकरार रखा है.

कोर्ट ने सुनाया था ये फैसला
भिलाई में हुए दिल दहला देने वाले नरबलि कांड में सुप्रीम कोर्ट ने दोनों मुख्य आरोपियों सहित 7 को दी गई फांसी की सजा को बरकरार रखा है. तांत्रिक दंपति सहित मामले के 7 आरोपियों को दुर्ग न्यायालय ने साल  2014 में फांसी की सजा सुनाई थी. दो साल के बच्चे चिराग राजपूत की बलि चढ़ाने वाले दोषी इश्वर लाल यादव और उसकी पत्नी किरण बाई के प्रकरण की सुनवाई के दौरान मानवीय दृष्टिकोण और रिकाॅर्ड में लाए गए साक्ष्यों के आधार अदालत ने इसे रेयरेस्ट ऑफ रेयर केस मानते हुए ये फैसला दिया गया.

ये है पूरी घटना

घटना 23 नवंबर 2011 की है. आरोपी दंपति खुद को तांत्रिक बताते थे. उनके शिष्य भी थे. कथित तांत्रिक इश्वर यादव और उसकी पत्नी किरण इस घटना में शामिल थे. जानकारी के मुताबिक, दंपति ने शिष्यों के साथ योजना बनाई और अपने पड़ोस में रहने वाले पोषण सिंह के दो साल के बेटे का अपहरण कर लिया और उसकी हत्या कर दी. साक्ष्य छिपाने के लिए आरोपियों ने बच्चे के शव को दफना दिया था. शक के आधार पर जब आरोपी दंपति से पूछताछ की गई तब पूरे मामले का खुलासा हुआ.  पुलिस की जांच में एक और बच्ची की हत्या की बात सामने आई थी. दुर्ग कोर्ट में चल रहे इस मामले का फैसला साल 2014 में आया, जिसे एक एतिहासिक फैसला बताया गया. मामले में न्यायालय ने सभी आरोपियों को फांसी की सजा सुनाई थी.

ये भी पढ़ें: 

कुत्ते की पीठ पर सवारी करता है ये बंदर, देखिए अनोखी दोस्ती की ये खास तस्वीरें 
Loading...

31 दिनों बाद पेंड्रा उप जेल से रिहा हुए अमित जोगी, पत्नी ऋचा जोगी ने किया ऐसे स्वागत  

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुर्ग से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 5, 2019, 11:07 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...