vidhan sabha election 2017

चमत्कारी 'नीम' अपनी मिठास से लोगों के बीच बना आकर्षण का केंद्र

Mithilesh Thakur | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: December 7, 2017, 8:59 PM IST
चमत्कारी 'नीम' अपनी मिठास से लोगों के बीच बना आकर्षण का केंद्र
महिलाओं को नीम की पत्तियां देते साईं भक्त एन. जी. शेगेकर
Mithilesh Thakur | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: December 7, 2017, 8:59 PM IST
छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले में एक चमत्कारी नीम के पेड़ का मामला सामने आया है. दरअसल, इस्पात नगरी कहलाने वाले भिलाई में एक साईं भक्त द्वारा लगाए गए नीम के पेड़ की पत्तियां कड़वी होने के बजाए मीठी हो गई हैं. आम तौर पर नीम की पत्तियां कड़वी होती हैं, लेकिन अब यह नीम का पेड़ अपने भक्त के माध्यम से कई लोगों को अपनी सेवाएं दे रहा है.

क्या है पूरा मामला

आपको बता दें कि हुडको भिलाई निवासी एन. जी. शेगेकर ने करीब 40 वर्ष पहले इस नीम के पेड़ को लगाया था. साईं भक्त एन. जी. शेगेकर का कहना है कि उन्होंने अपने बच्चे की तरह इस पेड़ को पालकर बड़ा किया है.

यूं तो एन. जी. शेगेकर शुरू से ही साईं भक्त हैं, लेकिन करीब 20 वर्ष से वो पूरी तरह साईं बाबा की भक्ति में लीन हो गए थे. मानस सेवा ही माधव सेवा है कि कहावत को चरितार्थ करते हुए उन्होंने हर किसी की सेवा करना शुरू कर दिया.

शुरुआती दौर में इस नीम के पेड़ की पत्तियां कड़वी थी, लेकिन धीरे धीरे अब पेड़ की पत्तियां मीठी हो गई हैं. ऐसे में स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से लोग नीम की मीठी पत्तियां खाने के लिए दूर-दूर से यहां पहुंचते हैं.

बहरहाल, लहलहाते नीम के पेड़ की पत्तियां हर किसी को हैरत में डाल रही है. मानों खुश होकर ये अपने बीच पहुंचे लोगों को आशीर्वाद दे रही हो. इस नीम के पेड़ की पत्तियां कड़वी न होकर इतनी मीठी है कि लोग दूर दूर से इन्हें खाने के लिए पहुंच रहे हैं.

मालूम हो कि जटिल बीमारियों के इलाज में नीम की पत्तियां रामबाण मानी जाती हैं. यही वजह है कि लोग इन मीठी पत्तियों को खाने के लिए भिलाई पहुंच रहे हैं. इस पेड़ की पत्तियां खाकर आज कई लोग स्वस्थ्य हो चुके हैं. इस कारण अब यह स्थल एक धार्मिक स्थल बन चुका है.

इस दौरान लोग रोज यहां आकर नीम के पेड़ की पूजा करते हैं. शिरडी का एक वो नीम का पेड़ था जहां बैठकर साईं बाबा लोगों के हर दुख तकलीफों को दूर करते थे, ठीक उसी तरह भिलाई का ये नीम का पेड़ भी लोगों की हर तकलीफों को दूर करने का काम कर रहा है. लोगों की मानें तो पेड़ में समाए साईं बाबा ही उनकी बीमारी को हर लेते हैं.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर