होम /न्यूज /छत्तीसगढ़ /चाइल्ड लाइन ने रुकवाया बाल विवाह

चाइल्ड लाइन ने रुकवाया बाल विवाह

प्रदेश में एक तरफ 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' के नारे लग रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर जबरन नाबालिग बेटियों की शादी तक कराई जा रही है. ताजा मामला भिलाई अंतर्गत आने वाले ढ़ौर गांव का है, जहां मंगलवार को एक 16 वर्षीय किशोरी की गांव के ही 23 वर्षीय युवक के साथ उसके घरवाले जबरन शादी करा रहे थे.

प्रदेश में एक तरफ 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' के नारे लग रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर जबरन नाबालिग बेटियों की शादी तक कराई जा रही है. ताजा मामला भिलाई अंतर्गत आने वाले ढ़ौर गांव का है, जहां मंगलवार को एक 16 वर्षीय किशोरी की गांव के ही 23 वर्षीय युवक के साथ उसके घरवाले जबरन शादी करा रहे थे.

प्रदेश में एक तरफ 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' के नारे लग रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर जबरन नाबालिग बेटियों की शादी तक कराई जा र ...अधिक पढ़ें

    प्रदेश में एक तरफ 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' के नारे लग रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर जबरन नाबालिग बेटियों की शादी तक कराई जा रही है. ताजा मामला भिलाई अंतर्गत आने वाले ढ़ौर गांव का है, जहां मंगलवार को एक 16 वर्षीय किशोरी की गांव के ही 23 वर्षीय युवक के साथ उसके घरवाले जबरन शादी करा रहे थे.

    मामले की जानकारी दुर्ग चाइल्ड लाइन की टीम को जामुल पुलिस की मदद से मिली. जानकारी मिलने के बाद चाइल्ड लाइन की टीम ने पुलिस की मदद से मौके पर दबिश दी और नाबालिग किशोरी को मंडप से उठाकर अपने साथ ले आई. वहीं, टीम की दबिश देने की सूचना लगते ही दुल्हा पक्ष मौके से फरार हो गया. मौके पर पहुंची चाइल्ड लाइन की टीम ने किशोरी के स्कूल सर्टिफिकेट मांगे तो पाया गया की युवती की 16 वर्ष ही है.

    बताया जा रहा है कि युवती 10वीं कक्षा की छात्रा थी. चाइल्ड लाइन फिलहाल युवती को अपने संरक्षण में ही रखेगी साथ ही विवाह करने वाले लोगों के खिलाफ भी इस मामले में मामला दर्ज करने की बात भी कही जा रही है.

    मामले में नाबालिग किशोरी से बात की गई तो उसने परिजनों पर स्कूल भेजने के बजाय घर में जबरन काम करवाने और हमेशा शक करने का आरोप लगाया.

    Tags: छत्तीसगढ़

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें