• Home
  • »
  • News
  • »
  • chhattisgarh
  • »
  • लोकसंगीत के माध्यम से 11 वीं कक्षा की छात्रा की पर्यावरण बचाने की अनोखी मुहिम

लोकसंगीत के माध्यम से 11 वीं कक्षा की छात्रा की पर्यावरण बचाने की अनोखी मुहिम

17 साल की नंदिनी यादव वैसे तो 11 वीं कक्षा की छात्रा हैं, लेकिन गीत संगीत के शौक ने उन्हें एक अलग पहचान भी दी है

  • Share this:
गरियाबंद जिले के लोहरसी गांव की 17 साल की नंदिनी यादव वैसे तो 11 वीं कक्षा की छात्रा हैं, लेकिन गीत संगीत के शौक ने उन्हें एक अलग पहचान भी दी है. नंदनी अपने गीतों के जरिए एक ऐसे विषय पर जागरूकता फैला रही हैं जिसकी आमतौर पर अनदेखी ही की जाती रही है.

कई बड़े मंचों पर प्रस्तुति दे चुकी है नंदिनी

भीषण गर्मी के इस मौसम में जंगलों में लगने वाली आग एक बड़ी समस्या है. इस तरह की घटनाओं के कारण हर साल करोड़ों की हानि होती है और वन्य जीवन को भी काफी नुकसान पहुचता है.
नंदिनी अपने गीतों के माध्यम से लोगों से इस तरह की आग और पर्यावरण को बचाने का संदेश दे रही है. गीत-संगीत के जरिए लोगों को अपनी बात समझाने के लिए नंदिनी को कई बड़े मंचों पर आमंत्रित किया जा चुका है.

नंदिनी को बचपन से ही संगीत में खास रुचि थी. उसने मात्र 6 साल की उम्र से ही संगीत सीखना शुरु कर दिया था. नंदनी को संगीत विरासत में ही मिला है. उसके पिता राजकुमार यादव भी संगीतकार हैं. नंदनी गोकरण मानिकपुरी को अपना गुरु मानती है और भविष्य में भारतीय लोक कला संस्कृति में ही अपना कैरियर बनाना चाहती है.

पर्यावरण प्रदूषण आज देश ही नहीं पूरी दुनिया के लिए एक बड़ी समस्या बना चुका है. गर्मी में आग लगने की घटनाएं बढ़ जाती है, जिससे वन संपदा को भारी नुकसान पहुंचता है और पर्यावरण प्रदूषण भी बढ़ जाता है. नंदनी जिस तरह अपने गीतों के माध्यम से लोगों को जागरूक कर रही है उसकी ये पहल प्रशंसनीय है.
ये भी पढ़ेंः जंगलों में आदिवासियों को जागरूक कर रहा नक्सलियों का ये पूर्व कमांडर

राजीव गांधी को अपने घर खाना खिलाकर बनी थी पोस्टर लेडी, आज भी है छत का इंतजार

 

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज