गरियाबंद: कुल्हाड़ीघाट के बाद अब दाबरीभाठा के ग्रामीणों ने किया पलायन

देवभोग विकासखंड की सुकलीभाठा पंचायत के दाबरीभाठा गांव से 20-25 मजदूरों के भी पलायन करने की बात सामने आई है. ग्रामीणों ने पलायन के पीछे सरकार और जिला प्रशासन के कामकाज का तरीका ठीक नहीं होने की बात कही है.

Krishna Kumar Saini | News18 Chhattisgarh
Updated: December 8, 2018, 1:47 PM IST
गरियाबंद: कुल्हाड़ीघाट के बाद अब दाबरीभाठा के ग्रामीणों ने किया पलायन
गरियाबंद: कुल्हाड़ीघाट के बाद अब दाबरीभाठा के ग्रामीणों ने किया पलायन
Krishna Kumar Saini
Krishna Kumar Saini | News18 Chhattisgarh
Updated: December 8, 2018, 1:47 PM IST
छत्तीसगढ़ के गरियाबंद जिले के डांगनबाय से बंधक बनाए गए करीब 27 मजदूरों को अब तक जिला प्रशासन मुक्त नहीं करा पाया है. वहीं अब इस बीच सांसद गोद ग्राम कुल्हाड़ीघाट से करीब 137 मजदूरों के पलायन की खबर सामने आई है. मामला ज्यादा तुल न पकड़े इसलिए जिला प्रशासन ने आनन-फानन में अपने कुछ अधिकारियों को कुल्हाडीघाट भेज दिया. साथ ही सब कुछ ठीक होने का दावा किया है.

वहीं कुल्हाड़ीघाट के बाद ही देवभोग विकासखंड की सुकलीभाठा पंचायत के दाबरीभाठा गांव से 20-25 मजदूरों के भी पलायन करने की बात सामने आई है. ग्रामीणों ने पलायन के पीछे सरकार और जिला प्रशासन के कामकाज का तरीका ठीक नहीं होने की बात कही है.

ग्रामीणों ने बताया कि दाबरीभाठा गांव में 3 साल से रोजगार गारंटी का कोई काम नहीं हुआ है और जो काम हुए थे उसके भी पैसे उन्हें अब तक नहीं मिले हैं. इतना ही नहीं मनरेगा के तहत जो शौचालय बनाए गए उनका मेहनताना भी ग्रामीणों को नहीं मिला है.

दाबरीभाठा के लोग केवल रोजगार को लेकर ही परेशान नहीं हैं, बल्कि ग्रामीणों का आरोप है कि उनके गांव में विकास नाम की कोई चीज नहीं है. सबसे महत्वपूर्ण बात तो ये है कि पंचायत मुख्यालय से उनके गांव तक पहुंचने के लिए एक सड़क तक नहीं है. ग्रामीण आज भी कच्ची पगडंडी के सहारे 6 किलोमीटर चलकर पंचायत मुख्यालय पहुंचते हैं.

सब कुछ स्पष्ट होने के बाद भी स्थानीय जनप्रतिनिधि और अधिकारियों की दलीलें ग्रामीणों के जख्मों पर नकम छिड़कने से कम नहीं है. गांव के सरपंच का कहना है कि रोजगार गारंटी में कम पैसे मिलने के कारण ग्रामीण काम नहीं करना चाहते. वहीं जनपद पंचायत सीईओ मोहनीश देवांगन का कहना है कि मनरेगा की राशि तो बहुत पहले जारी हो गई है. उन्होंने कहा कि फिर भी अगर किसी का भुगतान लंबित है वो भी पूरा कर दिया जाएगा.

ये भी पढ़ें:- नहीं बदली इस गांव की तस्वीर, जिसे कभी राजीव गांधी ने लिया था गोद

VIDEO: गरियाबंद के 25 बंधक मजदूरों को लाने के लिए कलेक्टर ने तेलंगाना भेजी टीम
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर