लाइव टीवी

गरियाबंद में एम्बुलेंस 'बीमार', जिम्मेदार ईलाज पर नही दे रहे ध्यान, मरीज हो रहे परेशान
Gariaband News in Hindi

Krishna Kumar Saini | News18 Chhattisgarh
Updated: February 12, 2020, 1:53 PM IST
गरियाबंद में एम्बुलेंस 'बीमार', जिम्मेदार ईलाज पर नही दे रहे ध्यान, मरीज हो रहे परेशान
गरियाबंद में एंबुलेंस खराब हो गई है. फाइल फोटो.

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) सरकार प्रदेश की स्वास्थ्य सुविधाएं सुधारने को लेकर खुद को जितनी गंभीर बताती है, प्रशासनिक अमला उतना ही सुस्त नजर आ रहा है.

  • Share this:
गरियाबंद. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) सरकार प्रदेश की स्वास्थ्य सुविधाएं सुधारने को लेकर खुद को जितनी गंभीर बताती है, प्रशासनिक अमला उतना ही सुस्त नजर आ रहा है. स्वास्थ्य विभाग के प्रशासनिक अधिकारियों की ऐसी ही एक लापरवाही गरियाबंद जिले में सामने आयी है. जिले के देवभोग सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र की 108 संजीवनी एक्सप्रेस बीते 30 जनवरी से खराब है. 14 दिन बीत जाने के बाद भी गाड़ी सुधारने को लेकर कोई पहल नहीं की गयी है. जबकि जिम्मेदार अधिकारियों को उसी दिन मामले की जानकारी दे दी गई थी.

एम्बुलेंस ठीक नहीं होने का खामियाजा देवभोग के आसपास 50 गांव के मरीजों को भुगतना पड़ रहा है. प्रदेश में 108, संजीवनी एक्सप्रेस, एंबुलेस स्वास्थ्य विभाग की धड़कन बन चुकी है, मगर गरियाबंद में स्वास्थ्य विभाग की इस धड़कन को ठीक करने की महती जरुरत नजर आ रही है. जिम्मेदार मामले में कोई ठोस पहल नहीं कर रहे हैं.

आखिर क्या हैं देवभोग के हालात
देवभोग प्रदेश के अंतिम छोर पर ओडिशा सीमा से लगा इलाका है. जिला मुख्यालय गरियाबंद और राजधानी रायपुर से दूर होने के साथ दुर्गम इलाका होने के कारण यहां स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं के बराबर है. यहां निजी अस्पताल तो दूर सरकारी अस्पताल में डॉक्टर्स की भारी कमी है. ग्रामीण मरीज देवभोग सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के भरोसे ही रहते हैं और 108 संजीवनी एक्सप्रेस ही लोगों को अस्पताल लाने ले जाने का एकमात्र जरिया है. लेकिन लंबे समय से गाड़ी खराब होने के कारण लोगों को भारी परेशानियों को सामना करना पड़ रहा है.



सुपेबेड़ा के मरीज भी निर्भर
बता दें कि किडनी की बीमारी के कारण देश और दुनिया में चर्चा का विषय बन चुका सुपेबेड़ा गांव इसी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के अनर्तगत आता है. वाहन चालक ओम कुमार साहू के मुताबिक गाड़ी का क्लच प्लेट खराब हो गया है और उसी दिन इसकी जानकारी उच्चाधिकारियों को भेज दी गयी है यदि पार्टस आ जाये तो गाड़ी एक दिन में सुधर सकती है. वहीं बीएमओ डॉ. सुनील भारती ने भी कुछ इसी तरह की जानकारी मीडिया को दी है, उनके मुताबिक पुरी जानकारी से उच्चाधिकारियों को अवगत करा दिया गया है.

ये भी पढ़ें:
कोरोना वायरस के खतरे के बीच छत्तीसगढ़ सरकार ने जारी की एडवाइजरी, बताया क्या करें-क्या न करें? 

छत्तीसगढ़: मनचलों के लिए दिल्लगी का जरिया बना पुलिस का यह हेल्पलाइन नंबर, कॉलर्स करते हैं मोहब्बत की बातें  

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गरियाबंद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 12, 2020, 1:53 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर