होम /न्यूज /छत्तीसगढ़ /कांग्रेस का पीछा नहीं छोड़ रहा वंशवाद का जिन्न, BJP ने लगाए ये आरोप

कांग्रेस का पीछा नहीं छोड़ रहा वंशवाद का जिन्न, BJP ने लगाए ये आरोप

वंशवाद का जिन्न फिलहाल कांग्रेस का पीछा छोड़ता नजर नही आ रहा है.

वंशवाद का जिन्न फिलहाल कांग्रेस का पीछा छोड़ता नजर नही आ रहा है.

कांग्रेस (Congress) में गैर गांधी अध्यक्ष बनाने का लेकर पिछले कुछ दिनों से जो जद्दोजहद चल रही थी.

    वंशवाद का जिन्न फिलहाल कांग्रेस (Congress) का पीछा छोड़ता नजर नही आ रहा है. अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) के बनने के बाद पार्टी पर वंशवाद का आरोप फिर से लगना शुरू हो गया है. छत्तीसगढ़ बीजेपी (BJP) ने इस मुद्दे को फिर से उठाना शुरू कर दिया है. बीजेपी के नेता कांग्रेस पर वैचारिक शून्यता का आरोप लगा रहे हैं.

    कांग्रेस (Congress) में गैर गांधी अध्यक्ष बनाने का लेकर पिछले कुछ दिनों से जो जद्दोजहद चल रही थी. उसे देखकर लग रहा था कि पार्टी वंशवाद के घेरे से बाहर निकलना चाह रही है और किसी गैर गांधी को अध्यक्ष बनाकर पार्टी पर वंशवाद के आरोप को गलत साबित करना चाह रही है. लेकिन सोनिया गांधी को एक बार फिर अध्यक्ष बनाये जाने के बाद अब फिर से सवाल उठने शुरू हो गए हैं. बीजेपी और कांग्रेस के नेता इसे लेकर एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगा रहे हैं.

    बीजेपी ने लगाए ये आरोप
    छत्तीसगढ़ में बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री चंद्रशेखर साहू (Chandrashekhar Sahu) ने कांग्रेस को आड़े हाथों लिया है. चन्द्रशेखर साहू ने कांग्रेस पर वैचारिक शून्यता का बड़ा आरोप लगाया है. साहू का कहना है कि कांग्रेस में वंशवाद की राजनीति शुरू से ही होती रही है. राजनीति में वंशवाद कांग्रेस की ही देन है. एक बार फिर से कांग्रेस ने राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के बाद फिर से सोनिया गांधी को अध्यक्ष बना कर इस पर मुहर लगा दिया है. हालांकि कांग्रेस ने एक बार फिर भाजपा के इन आरोपों का खंडन करते हुए गुमराह करने का आरोप लगाया है. कांग्रेस नेता अमितेश शुक्ल ने बीजेपी को खुद का चेहरा अइने में देखने की सलाह दिया है.

    ये भी पढ़ें: शादी से इनकार करने पर सिरफिरे आशिक ने की प्रेमिका की निर्मम हत्या, फिर.. 

    ये भी पढ़ें:- आम पेड़ काटने से नाराज भाई ने की बड़े भाई की हत्या, गिरफ्तार

    Tags: BJP, Chhattisgarh news, Congress, Sonia Gandhi

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें