Home /News /chhattisgarh /

boy left home with dream of becoming millionaire family found him in this state after 17 years cgnt

अमीर बनने का सपना लेकर छोड़ा घर, हुनर सीखा; 17 साल बाद परिवार को इस हाल में मिला

गरियाबंद के देवभोग पुलिस स्टेशन में युवक की परिजनों से मुलाकात हुई.

गरियाबंद के देवभोग पुलिस स्टेशन में युवक की परिजनों से मुलाकात हुई.

Gariaband Latest News: छत्तीसगढ़ की गरियाबंद पुलिस ने अमीर बनने की चाहत में 17 साल पहले अपना घर छोड़ने वाले युवक को उसके परिजनों से मिलवाया. युवक ने अमीर बनने का सपना लेकर घर छोड़ दिया था. घरवाले उम्मीद ही छोड़ चुके थे लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर था. मामला देवभोग थाना का है. वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के मार्गदर्शन में थाना प्रभारी बसंत बघेल की सक्रियता के कारण यह संभव हो पाया है. युवक के परिजन अपने बिछड़े सदस्य से मिलकर भावुक हो गए. मिठाई खिलाई और देवभोग पुलिस का परिजनों ने आभार व्यक्त किया. युवक ने बताया कि उसने राजधानी रायपुर में आकर कलाकारी सीखी. फिर गरियाबंद जिले के देवभोग में रहकर काम करने लगा था.

अधिक पढ़ें ...

गरियाबंद. घर से लापता युवक, जिसकी घरवाले उम्मीद ही छोड़ चुके थे, जब 17 साल बाद सामने आया तो घरवालों की खुशी का ठिकाना ना रहा. ऐसा ही एक मामला गरियाबंद जिले में सामने आया है, जहां रायगढ़ निवासी एक युवक आज 17 साल बाद घरवालों से मिला. मामला देवभोग थाना का है. वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के मार्गदर्शन में थाना प्रभारी बसंत बघेल की सक्रियता के कारण यह संभव हो पाया है. बीते सोमवार को युवक के परिजन देवभोग थाना पहुंचे और अपने बिछड़े सदस्य से मिलकर भावुक हो गए. एक दूसरे के गले मिले, मिठाई खिलाई और देवभोग पुलिस का परिजनों ने आभार व्यक्त किया.

युवक का नाम बिरजू उर्फ दाऊ सोनी है. 47 वर्षीय दाऊ के मुताबिक अमीर बनने का सपना लेकर उसने 2005 में घर छोड़ दिया था. कुछ दिन राजधानी रायपुर में रहकर उसने पेंटिंग का काम सीखा ओर फिर उसके बाद से वह किराए का मकान लेकर देवभोग में रहकर पेंटिंग का काम कर रहा था. अचानक एक दिन देवभोग पुलिस ने उसे बुलाया और उसका स्थायी पता पूछा. देवभोग पुलिस ने उसके परिजनों से संपर्क किया और आज उसके परिजन एव मित्र उसे लेने पहुंचे.

घर की हालत ठीक नहीं है
दाऊ ने बताया कि उनके घर की हालत ठीक नही थी। मेहनत मजदूरी करके किसी तरह उनका घर चल रहा था. वह एमए पास होने के बाद भी कुछ नहीं कर पा रहा था. गांव के लोग भी ताने दे रहे थे. इसलिए एक दिन उसने घर छोड़ दिया. दाऊ ने बताया कि वह बड़ा आदमी बनकर घर जाना चाहता था. ताकि गांव में मान सम्मान मिले और उसके घरवाले अच्छा जीवन जी सके, मगर उसके सपने पूरे नहीं हो सके. आज जब उसके दोनों भाई और दोस्त उसे लेने देवभोग पहुंचे तो माहौल ही बदल गया.

देवभोग पुलिस ने उन्हें आपस में मिलाया, मझले भाई उदय सोनी को यकीन ही नहीं था कि उनका भाई इतने वर्षों बाद उन्हें कभी दोबारा मिल पायेगा. हालांकि उनके बाल सखा राधा किशन जांगड़े को यकीन था कि उनका दोस्त गलत कदम नही उठा सकता और एक दिन वह जरूर गांव वापिस लौटेगा. बड़े भाई अजीत सोनी देवभोग पुलिस का आभार व्यक्त करते थकते नजर नही आये. उन्होंने कहा कि देवभोग पुलिस की बदौलत ही ही आज वे अपने भाई से मिल पाने में सफल हुए है.

इस तरह मिली जानकारी
थाना प्रभारी बसंत बघेल ने बताया कि वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन में कोमुनिटी पुलिसिंग के तहत  जब किरायेदारों की वैरिफिकेशन की तो डाऊ का मामला खुलकर सामने आया. पहले तो दाऊ ने सच्चाई नही बताई मगर जब कड़ाई से पूछताछ की गई तो उसने सबकुछ खुल बता दिया. उसके बाद कोसीर पुलिस से संपर्क कर दाऊ के परिजनों से बात की गई. आज उसके परिजन उसे लेने देवभोग पहुंचे है. बिरजू उर्फ डाऊ सोनी का अमीर बनने का सपना तो भले ही पूरा ना हो पाया हो मगर बिछड़े परिवार से मिलने के बाद वह भी बेहद खुश है और अब परिवार वालों के साथ गांव में रहकर ही मेहनत मजदूरी की बात कह रहा है.

Tags: Chhattisgarh news, Raigarh news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर