Home /News /chhattisgarh /

सरकार का दावा: हाथियों से अब नहीं होगा जानमाल का नुकसान, शुरू हुई ये बड़ी योजना

सरकार का दावा: हाथियों से अब नहीं होगा जानमाल का नुकसान, शुरू हुई ये बड़ी योजना

दो हाथियों में बीमारी का पता चलने के बाद पार्क की अन्य रेंज को भी अलर्ट कर दिया गया है. . (File Photo)

दो हाथियों में बीमारी का पता चलने के बाद पार्क की अन्य रेंज को भी अलर्ट कर दिया गया है. . (File Photo)

वन मंत्री के मुताबिक प्रदेश में जल्द ही हाथी कॉरिडोर बनने वाला है जिसका नाम लेमरु एलीफेंट कॉरिडोर होगा. इसके बनने से ग्रामीणों को तो फायदा होगा ही साथ ही हाथियों के संवर्धन भी फायदा मिलेगा.

गरियाबंद. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में हाथी (Elephant) अब ग्रामीणों को नुकसान नहीं पहुंचाएंगे, ना उनके घर तोड़ेंगे और ना ही किसी की जान लेंगे. छत्तीसगढ़ सरकार ने इस समस्या से निपटने के लिए एक बड़ी योजना तैयार करने का दावा किया है. सरकार ने लेमरु एलीफेंट कॉरिडोर (Lemru Elephant Corridor) को मंजूरी दे दी है. जल्द ही इस पर काम भी शुरू हो जाएगा. वनमंत्री मोहमद अकबर ने खुद इसकी जानकारी दी है. वन मंत्री के मुताबिक प्रदेश में जल्द ही हाथी कॉरिडोर बनने वाला है जिसका नाम लेमरु एलीफेंट कॉरिडोर होगा. इसके बनने से ग्रामीणों को तो फायदा होगा ही साथ ही हाथियों के संवर्धन भी फायदा मिलेगा.


क्या होगा कॉरिडोर का स्वरुप


राजिम माघी पुन्नी मेला में वन समीति की बैठक लेने पहुंचे वन मंत्री मो. अकबर ने बताया कि यह प्रोजेक्ट लंबे समय से लटका हुआ था. पिछली सरकार ने इस पर ध्यान नहीं दिया जबकि विपक्ष में रहते हुए उनकी पार्टी इसको पूरा करने की मांग करते रही है. अब उनकी सरकार आने के बाद इस प्रोजेक्ट पर तेजी से काम हो रहा है. मंत्री के मुताबिक प्रोजेक्ट को कैबिनेट की मंजूरी मिल गई है और जल्द ही इस पर काम चासू हो जाएगा. उन्होंने बताया कि पहले ये प्रोजेक्ट 452 वर्ग किमी में बनना प्रस्तावित था. मगर अब उनकी सरकार इसे 1995 वर्ग किमी में बनाने जा रही है.




सरकार ने लेमरु एलीफेंट कॉरिडोर को मंजूरी दे दी है

क्या होगा फायदा 


वन मंत्री ने बताया कि कॉरिडोर बनने से सरगुजा, जशपुर, कोरबा, रायगढ, बलौदाबाजार, महासमुंद और गरियाबंद जिले के ग्रामीणों को बहुत फायदा मिलेगा. हाथियों से ग्रामीणों को जो जानमाल के नुकसान के अलावा आर्थिक नुकसान भी नहीं होगा. साथ ही हाथियों को भी विचरण करने के लिए खुली जगह मिलेगी. वन मंत्री के मुताबिक कॉरिडोर एरिया हाथियों के बहुत अनुकुल है और इसके बनने से हाथियों के संवर्धन में भी मदद मिलगी.


ये भी पढ़ें: 


जल्दबाजी में कांग्रेस! 6 साल में पहली बार CM भूपेश बघेल की गैरमौजूदगी में PCC बैठक की तैयारी


बोर्ड एग्जाम में बेहतर रिजल्ट की कवायद, मुंगेली कलेक्टर बच्चों के लिए चला रहे ये अभियान 




Tags: Chhattisgarh news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर