गरियाबंद: स्कूल जाने के लिए कीचड़ भरे रास्तों पर चलने को मजबूर बच्चे

गरियाबंद जिले के अंतिम छोर पर बसे गंगराजपुर, बंदपारा, सरगीगुड़ा और चिंगराभाटा गांव में सड़कों का हाल बुरा है.

Krishna Kumar Saini | News18 Chhattisgarh
Updated: August 5, 2019, 12:28 PM IST
गरियाबंद: स्कूल जाने के लिए कीचड़ भरे रास्तों पर चलने को मजबूर बच्चे
गरियाबंद में कई स्कूलों में पहुंचने के लिए बच्चों को कीचड़ से होकर गुजरना पड़ता है.
Krishna Kumar Saini
Krishna Kumar Saini | News18 Chhattisgarh
Updated: August 5, 2019, 12:28 PM IST
स्कूली बच्चों को लेकर शिक्षा विभाग व प्रशासन कितना सजग है, इसका नजारा प्रदेश के गरियाबंद जिले में आसानी से देखने को मिल सकता है. यहां के कई स्कूलों में पहुंचने के लिए बच्चों को कीचड़ से होकर गुजरना पड़ता है. बच्चे रोजाना कीचड़ भरे रास्तों से होकर स्कूल जाने को मजबूर हैं. इसके बाद भी प्रशासन की ओर से कोई ठोस कदम नहीं उठाया जा रहा है.

गरियाबंद जिले के अंतिम छोर पर बसे गंगराजपुर, बंदपारा, सरगीगुड़ा और चिंगराभाटा गांव में सड़कों का हाल बुरा है. यहां के तकरीबन 50 से ज्यादा बच्चे बारिश के दिनों में हर रोज कीचड़ भरे रास्तों से गुजर कर बाड़ीगांव हाई स्कूल पहुंचते हैं. ज्यादा बारिश होने पर तो रास्ता इतना ज्यादा खराब हो जाता कि कीचड़ में बच्चे पूरी तरह सन जाते हैं. हालांकि इन गांवों से बाड़ीगांव तक पक्का मार्ग बना हुआ है, लेकिन 15 किमी से भी ज्यादा घुमावदार होने के कारण बच्चे एक किमी के इसी शार्टकट रास्ते से आना जाना करते हैं.

सड़क निर्माण की मांग
ग्रामीणों और गांव के सरपंच का कहना है कि इस मार्ग निर्माण के लिए वे कई सालों से मांग करते आ रहे हैं. जिम्मेदारों ने कई बार आश्वाशन भी मगर पूरा नहीं किया, जिसका खामियाजा आज भी यहां के स्कूली बच्चों को भुगतना पड़ रहा है. छात्रों का कहना है कि यदि स्कूल में पढ़ना है तो इस रास्ते से होकर गुजरना उनकी मजबूरी है.

ये भी पढ़ें: कब्र से निकाला जाएगा वन भैंसा श्यामू का कंकाल, जानें क्यों? 

ये भी पढ़ें: वर्तमान और पूर्व CM के बीच शायराना ट्विटर वॉर, इस TWEET को मिला रहा काफी रिएक्शन 
First published: August 5, 2019, 12:28 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...