करोड़ों के धोखाधड़ी मामले में फंसे जिला कांग्रेस अध्यक्ष को लेकर गरमाई राजनीति

विपक्षी पार्टियों और पार्टी के अंदर उनके विरोधियों ने मिलकर बैसाखुराम साहू के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है.

Krishna Kumar Saini | News18 Chhattisgarh
Updated: August 10, 2018, 10:33 AM IST
करोड़ों के धोखाधड़ी मामले में फंसे जिला कांग्रेस अध्यक्ष को लेकर गरमाई राजनीति
करोड़ों के धोखाधड़ी मामले में फंसे जिला कांग्रेस अध्यक्ष को लेकर गरमाई राजनीति
Krishna Kumar Saini | News18 Chhattisgarh
Updated: August 10, 2018, 10:33 AM IST
छत्तीसगढ़ के गरियाबंद जिले में चिटफंड के जरिए करोड़ों के धोखाधड़ी मामले में फंसे जिला कांग्रेस अध्यक्ष को लेकर राजनीति अब गरमा गई है. विपक्षी पार्टियों और पार्टी के अंदर उनके विरोधियों ने मिलकर बैसाखुराम साहू के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है.

गौरतलब है कि 9207 लोगों से चिटफंड के नाम पर 13,828,914 रुपए की धोखाधड़ी का मामला सामने आने के बाद सुर्खियों में आए गरियाबंद जिला कांग्रेस अध्यक्ष बैसाखुराम की मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही है. मामले को लेकर पुलिस में पहले ही एफआईआर दर्ज हो चुकी है. अब विरोधियों ने उनके इस्तीफे की मांग को लेकर उनकी मुसीबतें और बढ़ दी हैं.

विपक्षी इस मामले के जरिए कांग्रेस को घेरने में जुट गए हैं. रायपुर में बीजेपी प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने मामले को लेकर सीधे सीधे पीसीसी चीफ भुपेश बघेल पर निशाना साधा है. उन्होंने भुपेश को दूसरों पर आरोप लगाने से पहले अपने नेताओं को देखने की नसीहत दी है. वहीं जिला स्तर पर भी बीजेपी और जोगी कांग्रेस ने बैसाखुराम के बहाने कांग्रेस को घेरना शुरू कर दिया है.

बीजेपी विधायक संतोष उपाध्याय ने एफआईआर को लेकर कांग्रेस के कर्मों का फल बताते हुए मामले में कार्रवाई की मांग की है. वहीं जोगी कांग्रेस के प्रदेश महासचिव नुरुल रिजवी ने बैसाखुराम से नैतिकता के आधार पर इस्तीफा देने की मांग की है.

मामले को लेकर कांग्रेस में भी बैसाखुराम के खिलाफ विरोध शुरू हो गया है. कुछ उनके पक्ष में खड़े नजर आ रहे हैं, तो कुछ ने खुलकर उनके खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. पार्टी के पूर्व जिला अध्यक्ष बाबूलाल साहू ने तो उनके इस्तीफे तक की मांग कर डाली. बाबूलाल के मुताबिक अगर मामले की पुलिस जांच में बैसाखुराम दोषी पाए गए तो पार्टी को अपूरणीय क्षति भुगतनी पड़ेगी.

बहरहाल, विपक्षी पार्टियों को चुनाव से ठीक पहले गरियाबंद में कांग्रेस को घेरने का एक बड़ा मुद्दा मिल गया है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर