लाइव टीवी

सुपेबेड़ा में किडनी प्रभावित मरीजों ने इलाज से किया इनकार, बताई ये वजह

Krishna Kumar Saini | News18 Chhattisgarh
Updated: November 26, 2019, 5:04 PM IST
सुपेबेड़ा में किडनी प्रभावित मरीजों ने इलाज से किया इनकार, बताई ये वजह
सुपेबेड़ा के मरीज न तो इलाज कराना चाह रहे हैं और न ही फॉलोअप के लिए रायपुर जाने को तैयार हैं. (File Photo)

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के गरियाबंद (Gariaband) में सुपेबेड़ा (Supebeda) के किडनी प्रभावित मरीजों (Kidney Affected Patients) ने इलाज कराने से एक बार फिर इनकार कर दिया है.

  • Share this:
गरियाबंद. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के गरियाबंद (Gariaband) में सुपेबेड़ा (Supebeda) के किडनी प्रभावित मरीजों (Kidney Affected Patients) ने इलाज कराने से एक बार फिर इनकार कर दिया है. मरीज न तो इलाज कराना चाह रहे हैं और न ही फॉलोअप के लिए रायपुर (Raipur) जाने को तैयार हैं. गरियाबंद के देवभोग बीएमओ द्वारा ली गयी ग्रामीणों की बैठक में ये बात सामने आयी है. खुद बीएमओ सुनील भारती ने इसका खुलासा करते हुए बताया कि उन्होंने गांव में एक बैठक बुलाई थी जिसमें पंचायत प्रतिनिधि तो पहुंचे मगर मरीज नहीं पहुचे.

बीएमओ सुनील भारती (BMO Sunil Bharati) ने बताया कि उन्होंने जब मरीजों से संपर्क किया तो बिना कोई ठोस वजह बताते हुए रायपुर (Raipur) जाने से मना कर दिया. यहां तक कि जो मरीज कुछ दिन पहले इलाज के लिए रामकृष्ण अस्पताल गये थे, उन्होंने भी फॉलोअप के लिए मना कर दिया है. ऐसे में प्रशासन के लिए चिंता और बढ़ गई है. हालांकि इस बार ग्रामीणों ने इसके लिए सरकार को जिम्मेदार नहीं ठहराया है.

कोई दिलचस्पी नहीं
सुपेबेड़ा के पंच टिनीमिनी व ग्रामीण सुनीता नायक का कहना है कि राज्यपाल के दौरे के बाद सुपेबेड़ा में हालात सुधरने की उम्मीद जगी थी. खुद राज्यपाल अनसुईया उइके ने मरीजों को इलाज के लिए प्रेरित करने के अलावा वहां बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराने का दावा किया था, मगर अब लगता है कि मरीज में इसमें कोई दिलचस्पी नहीं ले रहे हैं.

ये भी पढ़ें: तीन तलाक पीड़िता ने एसपी दफ्तर में खाया जहर, पुलिस पर लगाए ये आरोप 

शादी से इनकार करने पर प्रेमी ने अपनी ही प्रेमिका को उतारा मौत के घाट, गिरफ्तार 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गरियाबंद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 26, 2019, 5:04 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...