छत्तीसगढ़ के इस गांव में नेताओं के घुसने पर लगी रोक

400 की आबादी वाला भैरीगुडा गांव, परेवापानी के बाद बिन्द्रानवागढ़ विधानसभा का दूसरा गांव है जहं के लोगों ने इस बार चुनाव का बहिष्कार करने का निर्णय लिया है.

Pankaj Gupte | News18 Chhattisgarh
Updated: October 13, 2018, 1:59 PM IST
छत्तीसगढ़ के इस गांव में नेताओं के घुसने पर लगी रोक
ग्रामीण
Pankaj Gupte
Pankaj Gupte | News18 Chhattisgarh
Updated: October 13, 2018, 1:59 PM IST
छत्तीसगढ़ में जैसे-जैसे विधानसभा चुनाव नजदीक आ रहा है, वैसे-वैसे असुविधाओं से वंचित जनता की नाराजगी उभर कर सामने आ रही है. छत्तीसगढ़ के गरियाबंद जिले में तो मानो चुनाव बहिष्कार का ट्रेंड चल पड़ा है. चुनाव बहिष्कार के एक के बाद एक मामले सामने आ रहे है. परेवापानी के बाद अब भैरीगुडा के ग्रामीणों ने चुनाव बहिष्कार का ऐलान किया है. यही नहीं यहां के ग्रमीणों ने चुनाव में वोट देने वालों पर तगड़ा जुर्माना लगाने का भी फैसला किया है.

लगभग 400 की आबादी वाला भैरीगुडा गांव, परेवापानी के बाद बिन्द्रानवागढ़ विधानसभा का दूसरा गांव है जहां के लोगों ने इस बार चुनाव का बहिष्कार करने का निर्णय लिया है. ग्रमीणों ने नेताओं को अपने गांव में घुसने पर रोक लगा दी है. साथ ही ग्रामीणों ने मतदान में भाग लेने वालों पर जुर्माना भी लगाने की बात कही हैं. ग्रामीणों के मुताबिक अगर किसी परिवार का एक सदस्य भी मतदान करता है तो उसे 5 हजार रुपये का जुर्माना देना होगा.

भैरीगुडा के ग्रामीणों ने बताया कि आज तक उनके गांव में पहुंचने के लिए सड़क नहीं बन पाया है. जिसके चलते उन्हें आए दिन परेशानियों का सामना करना पडता है. गांव में किसी के बीमार होने पर एम्बुलेंस गांव तक नहीं आ पाती, ऐसे में मरीज को अस्पताल ले जाने के लिए वह पैदल ही खटिया पर ले जाना पड़ता है. कई बार सही समय पर इलाज नही मिलने से गांव के कई लोगों की जान जा चूकी है. बारिश के दिनों में कीचड़ में फिसलकर कई ग्रमीणों का हाथ पैर टूट चूका है. ग्रामीणों के मुताबिक वे अपनी समस्या लेकर नेताओं के पास भी गए, मगर उनकी समस्या आज भी जस की तस बनी हुई है.

सड़क, बिजली और पानी जैसी बुनियादी सुविधाएं नहीं होने के मामले जिस तरह सामने आ रहे है, उससे एक बात तो साफ है कि इलाके में विकास की सख्त जरुरत है. नेताओं के प्रति ग्रामीणों में खासा आक्रोश है, चुनाव से पहले ग्रामीणों ने नेताओं के प्रति जिस तरह का गुस्सा दिखाया है उसे देखकर तो यही लगता है कि चुनाव के दौरान नेताओं के लिेए जनता का सामना करना काफी मुश्किलों भरा होगा.

यह भी पढ़ें- छत्तीसगढ़ में चुनाव: इस गांव में ग्रामीणों ने लगाई नेताओं के प्रवेश पर रोक
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर