प्रशासन की लापरवाही से दिव्यांग की मौत, परिजन कर रहे मुआवजे की मांग

प्रशासन की लापरवाही से दिव्यांग की मौत, परिजन कर रहे मुआवजे की मांग

प्रशासन की लापरवाही से दिव्यांग की मौत, परिजन कर रहे मुआवजे की मांग

गरियाबंद जिले में स्थानीय प्रशासन की लापरवाही के कारण एक दिव्यांग की मौत हो गई है, लेकिन प्रशासन अपनी गलती मानने के बजाय उसे छुपाने में जुटा है.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ के गरियाबंद जिले में स्थानीय प्रशासन की लापरवाही के कारण एक दिव्यांग की मौत हो गई है, लेकिन प्रशासन अपनी गलती मानने के बजाय उसे छुपाने में जुटा है. वहीं प्रशासन की इस लापरवाही का खामियाजा जिले के एक परिवार को अपना चिराग खोकर भुगतना पड़ रहा है.



पूरा मामला



दरअसल, जिला प्रशासन द्वारा बीते 17 जुलाई को जिला अस्पताल में दिव्यांगों के प्रमाण पत्र बनाने के लिए एक शिविर का आयोजन किया गया था. शिविर में दिव्यांग तो बड़ी संख्या में पहुंचे, लेकिन प्रशासन द्वारा उनके लिए मुकम्मल व्यवस्था नहीं की गई. ऐसे में शिविर में अफरा तफरी का माहौल बना रहा और इसी कारण शिविर में पहुंचे कदलीमुडा निवासी चक्रधर पात्र के दिव्यांग बेटे गौकुल की भीड़ में दम घुटने से मौके पर ही मौत हो गई. वहीं प्रशासन इसे अपनी गलती मानने को तैयार नहीं है. वहीं परिजनों के लगातार विरोध करने के बाद प्रशासन अब जाकर उन्हें कुछ सहायता राशि उपलब्ध करवाकर अपनी गलती छुपाने की कोशिश कर रहा है.





परिजन इस मामले में शुरू से ही प्रशासन की लापरवाही बता रहे हैं. साथ ही घर के चिराग की मौत के मुआवजे की मांग कर रहे हैं. परिजनों के मुताबिक प्रशासन द्वारा उन्हें जो मदद दी गई है, उससे वे खुश नहीं हैं. अगर प्रशासन उन्हें मुआवजा नहीं देती है तो वे प्रशासन द्वारा अब तक दी गई मदद को भी लौटा देंगे.
इधर, कांग्रेस भी इस मामले में शुरू से ही पीड़ित परिवार के साथ है और प्रशासन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रही है. बता दें कि एसडीएम कार्यालय का घेराव से लेकर कलेक्ट्रेट तक कांग्रेस इस मामले को उठा चुकी है. साथ ही दावा कर रही है कि उनके लगातार विरोध के कारण ही प्रशासन ने पीड़ित परिवार को सहायता राशि उपलब्ध कराई है. हालांकि कांग्रेस भी प्रशासन द्वारा पीड़ित परिवार को अब तक दी गई सहायता राशि से खुश नहीं है और मुआवजे की मांग कर रही है.



 



 



ये भी देखें:- VIDEO: कचरे को नष्ट करने के लिए गरियाबंद में ‘स्वच्छता यज्ञ’ का आयोजन
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज