स्कूल में स्वीपर निभा रहा शिक्षक की जिम्मेदारी

स्कूल में शिक्षकों की कमी को थी.तब स्वीपर राजूराम यादव ने खुद बच्चों को पढ़ाने का बीड़ा उठाया

Krishna Kumar Saini | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: March 14, 2018, 8:40 AM IST
स्कूल में स्वीपर निभा रहा शिक्षक की जिम्मेदारी
65 से 70 फीसदी तक कर सकते हैं बचत कॉलेज के छात्र-छात्राओं को कई चीजों की जरूरत कुछ समय के लिए ही होती है. किराए पर अपनी जरूरत का सामान लेकर वे 65 से 70 प्रतिशत तक की बचत कर सकते हैं. शर्मा का कहना है कि कई बार छात्रों को किसी किताब की जरूरत सिर्फ परीक्षा के समय होती है. ऐसे में किताबें खरीदना उनको महंगा पड़ता है.
Krishna Kumar Saini
Krishna Kumar Saini | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: March 14, 2018, 8:40 AM IST
छत्तीसगढ़ के गरियाबंद जिले में एक स्वीपर शिक्षक की जिम्मेदारी निभा रहा है.स्वीपर ने जब स्कूल में शिक्षकों की कमी से बच्चों की पढ़ाई बिगड़ते देखी तो दुखी होकर खुद ही बच्चों को पढ़ाना शुरु कर दिया.

मामला देवभोग विकासखंड के दीवानमुडा मिडिल स्कूल है. यहां का मिडिल स्कूल पिछले दो सालों से एक ही शिक्षक के भरोसे संचालित हो रहा है. यहां अध्ययनरत 103 बच्चों को एक शिक्षक संभाल रहा था. बच्चों को संभालने में जब शिक्षक को मुश्किल हुई तब स्वीपर राजूराम यादव ने आगे आकर मदद की.

12वीं पास स्वीपर राजूराम यादव ने दीवानमुडा मिडिल स्कूल के 103 बच्चों को पढ़ाना शुरु कर दिया.राजू पिछले कई महीनों से तीनों कक्षाओं में समाजिक विज्ञान, हिन्दी और संस्कृति विषयों को पढ़ा रहा है.उनके पढ़ाने के तरीके से बच्चे काफी खुश है. मिडिल स्कूल में पदस्थ शिक्षक भी उनकी तारीफ करते नहीं थकते.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर