ग्रामीण बैंक के रिटायर्ड कर्मचारियों ने की पेंशन राशि बढ़ाने की मांग
Janjgir News in Hindi

ग्रामीण बैंक के रिटायर्ड कर्मचारियों ने की पेंशन राशि बढ़ाने की मांग
ग्रामीण बैंक के रिटायर्ड कर्मचारियों ने की पेंशन राशि बढ़ाने की मांग

जांजगीर चांपा जिले में ग्रामीण बैंक के रिटायर्ड कर्मचारियों ने बैंक प्रबंधन की व्यवस्था को लेकर सवालिया निशान उठया है. लिहाजा, ग्रामीण बैंक के रिटायर्ड कर्मचारियों ने बैंक प्रबंधन की व्यवस्था को लेकर उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ के जांजगीर चांपा जिले में ग्रामीण बैंक के रिटायर्ड कर्मचारियों ने बैंक प्रबंधन की व्यवस्था को लेकर सवालिया निशान उठया है. लिहाजा, ग्रामीण बैंक के रिटायर्ड कर्मचारियों ने बैंक प्रबंधन की व्यवस्था को लेकर उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है. दरअसल, ग्रामीण बैंक के रिटायर्ड कर्मचारीयों का आरोप है कि वे बैंक में उम्र भर सर्विस करते हैं और उन्हें 50 से 55 हजार का वेतन मिलता था, लेकिन रिटायरमेंट के बाद बैंक की ओर से महज 1500 रुपए ही पेंशन दिया जा रहा है.

रिटायरमेंट के बाद बहुत कम पेंशन मिलने से उन्हें अपने बुढ़ापे में परिवार को चलाने में खासी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. ग्रामीण बैंक के रिटायर्ड कर्मचारी गौरी शंकर साहू का कहना है कि बैंक प्रबंधन को इस संबंध में जल्द ही ध्यान देना चाहिए, ताकि जीवन भर जो कर्मचारी उनके यहां काम करते हैं उन्हें बुढ़ापे में परेशानी न उठानी पड़े.

ग्रामीण बैंक के एक दूसरे कर्मचारी अखिलेस सिंह ने अन्य बैंकों की तरह ग्रामीण बैंक में भी अनुकंपा नियुक्ति लागू करने की मांग की है. ऐसे में रिटायर्ड कर्मचारी जहां अपनी मांगों को लेकर ग्रामीण बैंक प्रबंधन की व्यवस्था को लेकर आरोप लगा रहे हैं, तो वहीं ग्रामीण बैंक में कार्यरत कर्मचारी भी रिटायर्ड कर्मचारीयों की बात का समर्थन करते हुए ग्रामीण बैंक में पेंशन और अनुकंपा नियुक्ति लागू किए जाने की सहमति दे रहे हैं.



बैंक कर्मचारियों का कहना है कि पेंसन राशि में बढ़ोतरी और अन्य बैंकों की तरह ग्रामीण बैंक में भी अनुकंपा नियुक्ति लागू करने की मांग समेत 7 सूत्री मांगों को लेकर पिछले महीने 26 मार्च से 28 मार्च तक 3 दिवसीय धरना प्रदर्शन किया गया था. अगर जल्द ही उनकी मांगों पर ध्यान नहीं दिया गया, तो वे आगे उग्र आंदोलन करने पर विवश हो जाएंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज