'मार्केट में पकड़ बनाने के लिए आया ऑनलाइन गोबर बेचने का आइडिया'
Janjgir News in Hindi

'मार्केट में पकड़ बनाने के लिए आया ऑनलाइन गोबर बेचने का आइडिया'
demo pic

कृषि विज्ञान केंद्र के प्रभारी और वरिष्ठ कृषि वैज्ञानिक केडी महंत ने इस कार्य में राकेश का मार्गदर्शन किया है.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ के जांजगीर जिले का एक किसान आज डिजिटल प्लेटफॉर्म का सही इस्तेमाल पर मुनाफा कमा रहा है. किसान को खुद के ही गांव में गाय, बैल और भैंस के गोबर से बने कंडे और खाद के खरीददार नहीं मिले तो अपनी सूझबूझ से उसने इन्हें ऑनलाइन बेचने की प्लानिंग बना ली. अब किसान द्वारा बनाया कंडा न सिर्फ ऑनलाइन बिक रहा है, बल्कि महानगरों के साथ-साथ विदेशों से भी प्रोडक्ट के लिए ऑर्डर आ रहे हैं.

जांजगीर चांपा जिले के एक छोटे से गांव जोंगरा में रहने वाले किसान राकेश जायसवाल अपने खेतों में फसलों की पैदावार बढ़ाने के लिए रासायनिक खाद की जगह लम्बे समय से घर में ही गोबर खाद और केंचुआ खाद बनाकर खेतों में डाल रहे हैं.

राकेश जायसवाल ने बताया कि गोबर के कंडे और जैविक खाद को गांव में बेचने की कोशिश की. लेकिन मेहनत और क्वालिटी के हिसाब से दाम नहीं मिले. इसके बाद उन्होंने अपने माल को अंतरराष्ट्रीय बाजार में बेचने के लिए ऑनलाइन मार्केटिंग करने वाली कंपनियों से संपर्क किया.





कंपनियों से संपर्क करने के बाद ऑनलाइन कंपनी अमेजन से उनकी डील फाइनल हुई. आज कंपनी उनके प्रोडक्ट को उनकी सुविधा और ग्राहकों के मांग के अनुसार स्थानीय स्तर पर उठा रही है और राकेश को उनकी मेहनत का सही दाम भी मिल रहा है. 4 कंडों के पैकेट में कुल 24 कंडे होते हैं, जिसकी कीमत 199 रुपए है.

किसान राकेश अब गोबर के कंडे, गोबर खाद, केंचुआ खाद के अलावा अन्य 52 प्रकार के प्रोडक्ट ऑनलाइन बिक्री के लिए रजिस्टर्ड करवा चुके है. राकेश के बनाए हुए गांव के कंडे और खाद की मांग देशभर में होने लगी है. हैदराबाद, चेन्नई, गुड़गांव, चेन्नई के अलावा दक्षिण के एक अस्पताल से लगातार कंडे और खाद के ऑर्डर आ रहे है.

कृषि विज्ञान केंद्र के प्रभारी और वरिष्ठ कृषि वैज्ञानिक केडी महंत ने इस कार्य में राकेश का मार्गदर्शन किया है. कृषि वैज्ञानिक केडी महंत ने कंडे की क्वॉलिटी में सुधार करवाया है. जिससे वह जल्दी और काफी देर तक जल सके. क्वॉलिटी और आकर्षक पैकिंग के चलते इसकी डिमांड इतनी बढ़ गई है कि विदेशों में रहने वाले भारतीय इसे ऑनलाइन मंगवा रहे हैं.

राकेश ने अमेजन में अपनी बेटी नव्या के नाम से ब्रांड को रजिस्टर्ड कराया है. अमेजन की साइट पर नव्या एग्री एलायड (navyaagriallied) सर्च करने पर उनके ब्रांड साइट पर आ जाते है. वर्तमान में उनके तीन प्रोडक्ट शिवाप्रिय कंडे, गोबर खाद और केंचुआ खाद ऑनलाइन बिक रही है.

ये भी पढ़ें- जानिए, यहां यज्ञ में क्यों 'नरेंद्र मोदी प्रकट हो' का जाप कर रहे हैं ग्रामीण

राहुल गांधी के दौरे को लेकर छत्तीसगढ़ में मचा सियासी तूफान

नक्सलियों के चंगुल से छुटे अगवा इंजीनियर और कर्मचारी, जांच में जुटी पुलिस
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading