'हनुमान' के नाम पर धोखाधड़ी, कहीं आप भी तो नहीं बने शिकार?
Janjgir News in Hindi

'हनुमान' के नाम पर धोखाधड़ी, कहीं आप भी तो नहीं बने शिकार?
छत्तीसगढ़ के जांजगीर-चांपा जिले के सक्ती में इन दिनों एक शातिर ठक गिरोह सक्रिय है. इस गिरोह के लोगों द्वारा हनुमान छाप सिक्का खरीदने-बेचने के नाम पर व्यापारियों को ठगने की कोशिश करने की शिकायतें मिली हैं.

छत्तीसगढ़ के जांजगीर-चांपा जिले के सक्ती में इन दिनों एक शातिर ठक गिरोह सक्रिय है. इस गिरोह के लोगों द्वारा हनुमान छाप सिक्का खरीदने-बेचने के नाम पर व्यापारियों को ठगने की कोशिश करने की शिकायतें मिली हैं.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ के जांजगीर-चांपा जिले के सक्ती में इन दिनों एक शातिर ठग गिरोह सक्रिय है. इस गिरोह के लोगों द्वारा हनुमान छाप सिक्का खरीदने-बेचने के नाम पर व्यापारियों को ठगने की कोशिश करने की शिकायतें मिली हैं. पिछले दो महीने में इस प्रकार से ठगी करने के प्रयास की 20 से ज्यादा शिकायतें मिल चुकी हैं. हालांकि पुलिस इस प्रकार के किसी भी गिरोह के सक्रिय ना होने व लोगों को अफवाहों से सावधान रहने की बात कह रही है.

क्या है हनुमान छाप सिक्का
हनुमान छाप सिक्के को लेकर छत्तीसगढ़ के आदिवासी एवं पिछड़े इलाकों में कई प्रकार की भ्रांतियां प्रचलित हैं. ठगी करने वाले अपने शिकार से यह कहते हैं कि फलां हनुमान मंदिर में खुदाई के दौरान एक घड़े में से हनुमान छाप सिक्का मिला है. यह अभिमंत्रित सिक्का है और इसे पास में रखने से व्यापार खूब फलता-फूलता है. कई व्यापारी इस ​सिक्के को खरीदने के लालच में और कुछ लोग इसे उंचे दामों पर बेचने के लालच में ठगा जाते हैं.

ऐसे काम करता है गिरोह
ठग गिरोह इतने शातिराना तरीके से काम करता है कि इनके झांसे में कोई भी आसानी से फंस सकता है. इस गिरोह का एक व्यक्ति देहाती वेशभूषा में सामान खरीदने के बहाने किसी भी दुकान में जाता है और दुकानदार को अपना मोबाईल नंबर देते हुए उसे हनुमान छाप सिक्के की तलाश में होने की बात कहता है. वो कह​ता है कि अगर कहीं सिक्का मिले तो उसे फोन करे, वो सिक्के के बदले दस लाख तक दे सकता है. इसके कुछ दिन बाद गिरोह का दूसरा सदस्य उसी दुकान में जाकर कहता है की उसके पास हनुमान छाप सिक्का है जिसे वो दो लाख में बेचना चाहता है. अगर दुकानदार दस लाख कमाने के लालच में दो लाख में सिक्का खरीद लेता है तो उसके बाद दिया गया मोबाइल नंबर बंद मिलता है.



चार साल पहले नवागढ़ से पकड़ा गया था गिरोह
लगभग चार साल पहले इसी तरह के हनुमान छाप सिक्का गिरोह को नवागढ़ पुलिस ने पकड़ा था. उनके पास से तीन हनुमान छाप सिक्के और लाखों रुपए बरामद हुए थे. इसके बाद पूरा गिरोह बिखर गया था, लेकिन अब माना जा रहा है कि एक बार फिर से यह गिरोह सक्रिय हो गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading