छत्तीसगढ़: जशपुर के 89 शिक्षकों की जा सकती है नौकरी, ये है वजह

demo pic
demo pic

जशपुर के सन्ना में डीएलएड प्रशिक्षण केंद्र में प्रशिक्षण ले रहे 89 प्रशिक्षणार्थियों की नौकरी दांव पर लगी है.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ सरकार ने स्कूलों की शिक्षा में गुणवत्ता लाने सूबे के सभी शिक्षकों को इस साल अप्रैल तक प्रशिक्षित हो जाने का आदेश दिया है. लेकिन जशपुर में डीएलएड का प्रशिक्षण ले रहे 89 शिक्षकों की नौकरी विभागीय लापरवाही की वजह से दांव पर लगी है. गौरतलब हो कि राज्य शासन ने एक आदेश जारी करते हुए कहा है कि अप्रैल 2019 तक प्रदेश के सभी शासकीय- अशासकीय स्कूलों के शिक्षक अनिवार्य रुप से डीएलएड और बीएड कर प्रशिक्षित हो जाएं. अब जशपुर के सन्ना में डीएलएड प्रशिक्षण केंद्र में प्रशिक्षण ले रहे 89 प्रशिक्षणार्थियों की नौकरी दांव पर लगी है.

दरअसल इस डीएलएड का प्रशिक्षण ले रहे ये सभी शिक्षक हिन्दी के असाइनमेंट में फेल हो गए है. असाइनमेंट 30 अंकों का होता है. जिसे उत्तीर्ण करने के लिए न्यूनतम 12 अंक लाने होते है. इस असाइनमेंट में सभी 89 शिक्षकों को दस से कम अंक मिले है. खास बात यह कि इस असाइनमेंट को प्रशिक्षणार्थी परीक्षा हॉल में नहीं बल्कि घर में ले जाकर तैयार करता है, जिससे इस विषय में फेल होने का सवाल ही नहीं उठता.

प्रशिक्षण ले रहे शिक्षकों का आरोप है कि प्रशिक्षण केंद्र के कर्मचारियों की लापरवाही की वजह से इन सभी शिक्षकों को फेल कर दिया गया है, जिसकी वजह से अब शिक्षक खासे परेशान है और अब उनकी नौकरी भी जाने का खतरा बना हुआ है. वहीं जिले के अधिकारी भी इस मामले में आश्चर्य जताते हुए मामले की जांच की बात कह रहे है. इस मामले में डीईओ बीआर ध्रुव का कहना है कि इस मामले में आवेदन मुझे मिला है. असाइनमेंट में फेल कर दिए जान की बात आश्चर्य की है. ऐसा होता नहीं है कि कोई असाइनमेंट में फेल हो जाए. फिलहाल मामले की जांच की जा रही है. जांच के बाद की तथ्य सामने आएंगे.



ये भी पढ़ें:
दुर्ग: मोहलाई इलाके में हुई हत्या की वजह जानकर आप हैरान रह जाएंगे...

लोकसभा चुनाव 2019: इस सीट पर जीत का हैट्रिक लगा पाएगी बीजेपी?

छत्तीसगढ़: तमाम कोशिशों के बावजूद राजस्व वसूली में पिछड़ा रायपुर नगर निगम!

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स      
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज