लाइव टीवी

गजब है...यहां बच्चे स्कूल पढ़ने नहीं बस मिड-डे मील खाने जाते हैं!

Deepak Singh | News18 Chhattisgarh
Updated: December 5, 2018, 2:18 PM IST

जशपुर में एक ऐसा स्कूल है जहां स्कूली बच्चे स्कूल में पढ़ने नहीं सिर्फ मध्यान्ह भोजन खाने आते है. सुबह बच्चे स्कूल पहुंचकर मध्यान्ह भोजन बनने का इंतजार करते है और जब मध्यान्ह भोजन बन जाता है तब बच्चे मध्यान्ह भोजन खाकर वापिस अपने घर चले जाते है.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले में एक अनोखा मामला सामने आया है. बगीचा विकासखण्ड का जाड़ाकोना प्राथमिक स्कूल में दो दर्जन से अधिक बच्चे पढ़ते है. इस स्कूल में बच्चे सिर्फ मध्यान्ह भोजन खाने आते है क्योंकि इस स्कूल में एक ही शिक्षक पदस्थ है और वो भी हमेशा स्कूल से गायब रहते है. कभी स्कूल आते भी है तो शराब के नशे में. अब ऐसे हालात में यहां पर बच्चो की पढ़ाई ठप्प पड़ी हुई है.

(ये भी पढ़ें: पुलिस का दावा: माओवादियों से चल रही आखिरी दौर की लड़ाई, जल्द होगा लाल आतंक का खात्मा )

जाड़ाकोना प्राथमिक स्कूल में आदिवासी बच्चे अब सिर्फ मध्यान्ह भोजन करने स्कूल आते है. सुबह आकर ये बच्चे स्कूल के बाहर मैदान में बैठकर मध्यान्ह भोजन बनने का इंतजार करते है और जब मध्यान्ह भोजन बन जाता है तो सभी बच्चे मध्यान्ह भोजन करके घर वापिस चले जाते है. ऐसा नहीं की इन हालातों की जानकारी विकासखण्ड में बैठे अधिकारियों को नहीं. ग्रामीणों ने कई बार शिक्षक के खिलाफ शिकायत भी है लेकिन अधिकारी शराबी शिक्षक पर मेहरबान बने हुए है.

(ये भी पढ़ें: दंतेवाड़ा में नक्सलियों बेलोरो में लगाई आग, ठेकेदार की हत्या की आशंका, प्रवास पर हैं राज्यपाल )

वहीँ अब इस मामले में जिला शिक्षा अधिकारी का अपना ही एक अलग जवाब है. जिला शिक्षा अधिकारी बीआर ध्रुव का कहना है कि मामले की जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी. अब देखना होगा कि इस मामले में शिक्षा विभाग कुछ कार्रवाई करता है या फिर इस स्कूल में बच्चे पढ़ाई करने नहीं पहले की तरह मध्यान्ह भोजन करने की आएंगे.

(ये भी पढ़ें: छत्तीसगढ़: महिला की मौत के बाद उसके रिश्तेदारों ने किया अस्पताल में हंगामा)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जशपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 5, 2018, 2:12 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर