Lockdown: रांची से पैदल जशपुर पहुंचे 9 मजदूर, SDOP ने खाना खिलाकर क्वारेंटाइन सेंटर भेजा
Jashpur News in Hindi

Lockdown: रांची से पैदल जशपुर पहुंचे 9 मजदूर, SDOP ने खाना खिलाकर क्वारेंटाइन सेंटर भेजा
मजदूरों को खाना खिलाने के बाद क्वारेंटाइन सेंटर भेजा गया.

इसके बाद एसडीओपी मनीष कुंवर (DSP Manish Kuwer) ने बस्तर की हल्बी भाषा में इन मजदूरों बात की तो उन्होंने अपनी आपबीती पुलिस अधिकारी को सुनाई.

  • Share this:
जशपुर.  कोरोना वायरस से लड़ने के लिए किए गए लॉकडाउन के दौरान सबसे ज्यादा परेशानी गरीब मजदूरों को हो रही है. बताया जा रहा है कि रांची में बोरवेल गाड़ी में काम कर रहे बस्तर के मजदूरों को उनके मालिक ने बिना मजदूरी दिए भगा दिया. इसके बाद एक हफ्ते में रांची से पैदल चलकर भूखे प्यासे जशपुर पहुंचे, जहां बस्तर के ही एक पुलिस अधिकारी ने उनसे बस्तर की हल्बी भाषा में बात करके उनको खाना खिलाया और फिर उन्हें क्वारेंटाइन सेंटर में शिफ्ट किया.

लॉकडाउन के बाद लगातार मजदूरों के साथ अमानवीय व्यवहार के कई मामले सामने आ रहे हैं. मजदूरों से मुताबिक बस्तर से 9 लोग रांची में एक बोरवेल कंपनी में काम करने गए थे, लेकिन लॉकडाउन की घोषणा होने के बाद कुछ दिन तो अपने बचाए पैसे पर गुजर बसर करते रहे. लेकिन फिर पैसे खत्म हुए तो वो अपने मालिक से पैसे मांगने पहुंचे. तब मालिक ने इनके काम किए हुए मेहनताना को दिए बगैर उन्हें भगा दिया. इसके बाद ये मजदूर पैदल ही लगभग एक हजार किलोमीटर दूर बस्तर के लिए निकल पड़े.

पुलिस ने की मदद



जशपुर की सीमा में प्रवेश करने के बाद जैसे ही मजदूर कुनकुरी क्षेत्र में पहुंचे तो बस्तर मूल के पुलिस अधिकारी डीएसपी मनीष कुंवर जो कुनकुरी एसडीओपी के पद पर पदस्थ हैं उनकी नजर इन पर पड़ी. उन्होंने मजदूरों से बातचीत की तो मजदूरों ने बस्तर जाने की बात कही. इसके बाद डीएसपी मनीष कुंवर ने बस्तर की हल्बी भाषा में इन मजदूरों बात की तो उन्होंने अपनी आपबीती पुलिस अधिकारी को सुनाई.
इसके बाद डीएसपी मनीष कुंवर ने पहले इन सभी मजदूरों को खाना खिलाया और फिर सभी मजदूरों का स्वास्थ्य परीक्षण करवाकर सभी मजदूरों को क्वारेंटाइन सेंटर में शिफ्ट करवा दिया. इन सभी मजदूरों के पास फोन तक नहीं था जिससे ये मजदूर अपने परिजनों से बात कर सकते. लेकिन डीएसपी मनीष कुंवर ने सभी मजदूरों को उनके घर अपने फोन से बात भी कराई. सभी मजदूर कोंडागांव- नारायणपुर - कांकेर जिले के हैं.

कुनकुरी एसडीओपी मनीष कुंवर का कहना है कि बस्तर संभाग के 9 मजदूर रांची में काम करते थे. उन्हें बिना मेहनताना दिए काम से निकाल दिया गया. ये सभी मजदूर रांची से बस्तर पैदल भूखे प्यासे जा रहे थे. सभी को भोजन करवाकर उनका स्वास्थ्य परीक्षण करने के बाद क्वारेंटाइन सेंटर में शिफ्ट किया गया है.

 

ये भी पढ़ें: 

 कोरोना संकट में रायगढ़ और कोरबा ने 'रचा इतिहास', मिला शोकॉज नोटिस 

रायपुर नगर निगम की 'गांधीगिरी', पहले काटा चालान फिर दिया लोगों को मास्क
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading