• Home
  • »
  • News
  • »
  • chhattisgarh
  • »
  • ढोढ़ी का गन्दा पानी पीने मजबूर है राष्ट्रपति के दत्तक पुत्र पहाड़ी कोरवा

ढोढ़ी का गन्दा पानी पीने मजबूर है राष्ट्रपति के दत्तक पुत्र पहाड़ी कोरवा

बगीचा विकासखण्ड के रोकड़ा में पहाड़ी कोरवा एवं अन्य ग्रामीण ढोढ़ी का गन्दा पानी पीने को मजबूर है.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले में राष्ट्रपति के दत्तक पुत्र पहाड़ी कोरवाओं के विकास के लिए पानी की तरह पैसा बहाया जा रहा, लेकिन फिर भी पहाड़ी कोरवा मूलभूत सुविधाओं के लिए आज भी तरस रहे हैं. बगीचा विकासखण्ड के रोकड़ा में पहाड़ी कोरवा एवं अन्य ग्रामीण ढोढ़ी का गन्दा पानी पीने को मजबूर है. बगीचा विकासखण्ड के रोकड़ा गांव के रहने वाले पहाड़ी कोरवा पीने के पानी के लिए हर साल जद्दोजहद करते है.

मिली जानकारी के मुताबिक रोकड़ा पहाड़ी कोरवा बाहुल्य ग्राम है. इस गांव में लगा सोलर पंप सालों से खराब है. इस वजह से ग्रामीण गांव से दूर बने ढोढ़ी का पानी पीने को मजबूर है. ढोढ़ी का गंदा पानी पीने से कई ग्रामीण बीमार भी पड़ते है. लेकिन इसके अलावा उनके पास कोई चारा भी नहीं. पहाड़ी कोरवा इस ढोढ़ी के पानी को छानकर ही अपनी प्यास बुझा रहे है.

पहाड़ी कोरवा पीने के पानी के लिए हर साल जद्दोजहद करते है.
पहाड़ी कोरवा पीने के पानी के लिए हर साल जद्दोजहद करते है.


रोकड़ा गांव के ग्रामीणों का कहना है कि कई महीनों से सोलर पंप खराब है. गांव में पेयजल की कोई व्यवस्था नहीं है. इस वजह से सभी को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. अपनी शिकायत गांव के सरपंच तक ग्रामीणों ने पहुंचाई है लेकिन समस्या का कोई हल नहीं निकल पाया. इस मामले में पीएचई विभाग के प्रभारी ईई कमल कंवर का कहना है कि मीडिया के माध्यम से कोरवाओं की इस समस्या का पता चला है. रोकड़ा गांव में लगा बोर धंस गया है. जल्द नए बोर का खनन किया जाएगा.

ये भी पढ़ें:

यहां ढाई साल में 2 किलोमीटर सड़क भी नहीं बना पाई सरकार!

छत्तीसगढ़: पुलिस विभाग में बदलाव के बावजूद रायपुर में कम नहीं हो रहा क्राइम

मैंने हक नहीं छीना, बस भाजपा का वादा पूरा किया: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स     

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज