Assembly Banner 2021

बेटे की मौत के बाद इंसाफ की गुहार लगा रहा है बीएसएफ जवान का ये पिता

बीएसएफ जवान के पिता

बीएसएफ जवान के पिता

पिता का आरोप है कि आज तक शासन- प्रशासन ने मामले को गंभीरता से नहीं और न्याय नहीं किया. मृतक के पिता ने साथी जवान पर ही हत्या का आरोप लगाया है.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले में बीएसएफ जवान का पिता अपने बेटे की संदिग्ध मौत के बाद इंसाफ की गुहार लगा रहा है. अपने बेटे की मौत को हत्या बताते हुए न्याय की गुहार लगा रहे है पिता सुनू राम का बेटा गिरधारी यादव बीएसएफ में तैनात था. परिवार से मिलने के लिए अवकाश ले कर दो साल पहले घर आ रहा था लेकिन रास्ते में ही उसकी हत्या कर दी गई. पिता का आरोप है कि आज तक शासन- प्रशासन ने मामले को गंभीरता से नहीं और न्याय नहीं किया. मृतक के पिता ने साथी जवान पर ही हत्या का आरोप लगाया है.

दो साल पहले अपने पिता को किया था आखिरी कॉल

बीएसएफ के जवान गिराधारी यादव के पिता सुनू राम ने बताया कि बेटा गिरधारी यादव 29वीं बटालियन में कश्मीर में कार्यरत था. 9 अप्रैल 2016 को कश्मीर से अपने घर जशपुर अवकाश पर आ रहा था. उसके साथ उसका दोस्त लखन साय भी था, वो भी बीएसएफ में पदस्थ है. घर के लिए निकलते ही गिरधारी ने पिता को फोन पर सूचना दी कि वह सियालदह एक्सप्रेस से आ रहा है और घर आकर परिवार के साथ कुछ दिन बिताएगा. वह लगातार घर के संपर्क में था और आखरी बार झारखंड के कोडरमा से बेटे के साथ फोन पर परिजनों का संपर्क हुआ. जिसके बाद उसी रात 11 अप्रैल 2014 को जशपुर पहुंचने की बात हुई थी.



लेकिन दो दिन बाद भी जवान घर नहीं पहुंचा और जवान का फोन भी बन्द था जिससे परिजनों की चिंता बढ़ गई. परिजन बेटे के साथी जवान के पास जानकारी लेने पहुंचे तब साथी जवान लखन साय ने बताया कि गिरधारी रामगढ़ में चलती गाड़ी से उतर गया था. उसने कहा कि वो एक दो दिन में जाएगा जिसके बाद परिजनों ने दो दिनों तक बेटे का इंतजार किया. लेकिन फिर भी उनका बेटा नहीं लौटा, जिसके बाद उनकी चिंता बढ़ती गई.
पिता लगा रहे हत्या का आरोप, पुलिस कर रही जांच की बात

14 अप्रैल 2016 को जब उस जवान को लेकर परिजन रामगढ़ के उस स्थान पर पहुंचे जहां से बेटा गायब हुआ था वहा किसी प्रकार की जानकारी नहीं मिलने पर परिजन जब रामगढ़ थाना पहुंचे. तब पता चला कि 13 अप्रेल को एक लावारिस लाश मिली है, जिसकी स्थिति बहुत खराब है. शव को फ्रीजर में रखवाने रांची मेडिकल काॅलेज भेज दिया गया था. मेडिकल कॉलेज में जाने पर शव की शिनाख्त हुई और गिरधारी लाल के मौत की पुष्टि हुई.

बीएसएफ जवान की मौत को लेकर पिता सुनू राम ने कई साक्ष्य जुटाए है. मृतक जवान के पास उसके दो एटीएम भी नही थे और खाते से सारे पैसे भी निकल चुके है. शव की स्थिति से लेकर तत्कालीन समय की परिस्थितियों के सुत्र जोड़ते हुए सुनू राम ने कहा कि बीएसएफ में पदस्थ बेटे की हत्या हुई है. पिता ने मामले में विशेष जांच की मांग की है. जवान के पिता ने प्रधानमंत्री सहित, केंद्रीय गृहमंत्री को भी पत्र लिखा. घटना के बाद मृतक के पिता ने बीएसएफ से भी मदद मांगी लेकिन बीएसएफ ने भी कोई मदद नहीं की.

न्याय के लिए दर-दर भटक रहा परिवार

इस घटना से जवान का परिवार टूट गया है. घर में जवान की पत्नी समेत पूरा परिवार है. बच्चों और परिवार के संचालन के साथ कई दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है. पिता ने कहा कि सबसे पहले उन्हें न्याय मिले और बेटे की हत्या को लेकर मामला विशेष रूप से जांच में लिया जाए. जिसके साथ ही परिवार के सदस्य को अनुकंपा नियुक्ति दी जाए और उन्हें न्याय मिले. पिता ने प्रधान मंत्री सहित आला अधिकारियों को पत्र लिखकर मामले में कार्रवाई की मांग की है. वहीं जशपुर पुलिस ने बताया कि मामले की जांच के लिए झारखंड पुलिस से लगातार संपर्क किया जा रहा है.

ये भी  पढ़ें:



एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स     
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज