सीताफल से आइसक्रीम-शेक बनाने वाली महिलाओं को डीप फ्रीजर की सौगात
Kanker News in Hindi

सीताफल से आइसक्रीम-शेक बनाने वाली महिलाओं को डीप फ्रीजर की सौगात
सीताफल से आइसक्रीम-शेक बनाने वाली महिलाओं को डीप फ्रीजर की सौगात

सूखे की मार झेल रहे कांकेर जिले के लोग अब सीताफल को अपनी आय का मुख्य साधन बनाकर अपनी जीविका चला रहे हैं. साथ ही इससे होने वाली कमाई से अपना और अपने परिवार का पेट पालने में लगे हुए हैं.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ में कांकेर जिले को अब सीताफल के नाम से पूरे देश के लोग जानने लगे हैं. दरअसल, यहां के जंगलों में कुदरती तौर पर सीताफल के कई सारे पेड़ लगे हुए हैं. यही वजह है कि सूखे की मार झेल रहे जिले के लोग अब सीताफल को अपनी आय का मुख्य साधन बनाकर अपनी जीविका चला रहे हैं. साथ ही इससे होने वाली कमाई से अपना और अपने परिवार का पेट पालने में लगे हुए हैं.

वहीं इसी कारण कृषि विभाग भी अब इस काम को आगे बढ़ाने के लिए गांव गांव में जाकर वहां महिला समिति बनाकर उन्हें स्वरोजगार से जोड़ने में लगा हुआ है. ताकि ये महिलाएं स्वरोजगार से आत्मनिर्भर हो सके और एक बेहतर तरीके से अपने परिवार का पेट पाल सके.

मामले में कृषि संयुक्त संचालक चिरंजीवी सरकार ने बताया कि इन महिला समितियों द्वारा जंगल से सीताफल लाकर उसे जिले और जिले के बाहर भी बेचे जाते हैं. इसके अलावा अब सीताफल के पल्प को आइसक्रीम और सीताफल शेक बनाने में लगे हुए है.



लिहाजा, इसे देखते हुए जिला प्रशासन ने इन स्व सहायता समूह की महिलाओं को सीताफल के पल्प को सुरक्षित रखने के लिए एक डीप फ्रिज मुहैया काराया है. आपको बता दें कि ये महिलाएं अब दिल्ली और मुंबई के अलावा विदेशों के बाजार में भी सीताफल बेचने की तैयारी में जुटे गई हैं.
महिलाओं का कहना है कि इस सीताफल के पल्प से वे बहुत सी मिठाई बनाना सिख गई हैं, जिससे अब उनकी आय में दोगुनी हो गई है. इसके साथ-साथ यह उनके लिए एक रोजगार का एक बेहतर साधन भी बन गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज