Assembly Banner 2021

फ्लोराईड युक्त पानी ने गला दीं हड्डियां, बीमार कर दिए दांत-मसूढ़े

फ्लोराईड युक्त पानी पीने से बीमार हो रहे हैं लोग

फ्लोराईड युक्त पानी पीने से बीमार हो रहे हैं लोग

कांकेर जिले के नरहरपुर विकासखंड के आदिवासी वर्षों से फ्लोराईड युक्त पानी पीकर फ्लोरोसिस नामक बीमारी से पीड़ित होते रहे हैं.

  • Share this:
कांकेर जिले के नरहरपुर विकासखंड के आदिवासी कई सालों से फ्लोराईड युक्त पानी पीकर फ्लोरोसिस नामक बीमारी से पीड़ित होते रहे हैं. इस बीमारी का मसूढ़ों और हड्डियों पर गंभीर असर देखने को मिलता रहा है. इससे मुक्ति के लिए पीएचई विभाग ने आयरन रिमूवल संयंत्र लगवाया मगर इसका कोई असर देखने को नहीं मिला. यानी दांतों-मसूढ़ों के साथ ही हड्डियां गला देने वाली बीमारी ने स्कूली बच्चे, युवा, बुजूर्गों का पीछा नहीं छोड़ा.

बता दें, गांव के सभी नलों, ट्यूबवेल में फ्लोराईडयुक्त पानी है. इस समस्या के निदान के लिए डेढ़ किलोमीटर दूर से पानी मंगवाया जा रहा था. लेकिन पाइप लाइन खराब होने व पर्याप्त पानी की पूर्ति नहीं मिलने से ग्रामीण इस पानी को अभी भी पीने के लिए मजबूर हैं.

कांकेर के मुख्य चिकित्सक एल. उइके ने कहा कि इस पानी का उपयोग कर मुख्य रूप से बच्चे ज्यादा प्रभावित होते हैं. उन्हें मसूढ़ों और हड्डियों की बीमारी हो जाती है. उन्होंने बताया कि करीब 150 गांवों में पानी की समस्याएं हैं.



नरहरपुर क्षेत्र के डुमरपानी, बागडोंगरी, उमरादाह गांव के 35 हैडपंपों को अनुपयुक्त पाया गया है. इन गांवों में स्वास्थ्य शिविर लगाकर आमजनता को सचेत किया गया. साथ ही पीएचई विभाग को अवगत कराया गया ताकि वह प्लांट स्थापित कर इस बीमारी से लोगों को बचाने का काम करे. मगर अभी तक कुछ होता नहीं दिख रहा है.
फ्लोराईड युक्त पानी पीने से बीमार हो रहे हैं लोग


बता दें कि इस जहरीले लाल पानी के संबंध में पीएचई के मुख्य अभियंता से बात करने की कोशिश की गई. लेकिन उन्होंने कैमरे के सामने कुछ भी कहने से मना कर दिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज