इन कारणों से कांकेर कृषि विज्ञान केंद्र को मिला साल 2017 का कृषि प्रोत्साहन पुरस्कार
Kanker News in Hindi

इन कारणों से कांकेर कृषि विज्ञान केंद्र को मिला साल 2017 का कृषि प्रोत्साहन पुरस्कार
इन कारणों से कांकेर कृषि विज्ञान केंद्र को मिला साल 2017 का कृषि प्रोत्साहन पुरस्कार

हाल ही में दिल्ली में आयोजित हुए राष्ट्रीय कृषि पुरस्कार सम्मेलन में देश के प्रधानमंत्री के हाथों छत्तीसगढ़ के कांकेर कृषि विज्ञान केंद्र को पंडित दीनदयाल उपाध्याय कृषि प्रोत्साहन पुरस्कार दिया गया है.

  • Share this:
हाल ही में दिल्ली में आयोजित हुए राष्ट्रीय कृषि पुरस्कार सम्मेलन में देश के प्रधानमंत्री के हाथों छत्तीसगढ़ के कांकेर कृषि विज्ञान केंद्र को पंडित दीनदयाल उपाध्याय कृषि प्रोत्साहन पुरस्कार दिया गया है.

आपको बता दें कि पुरस्कार देने के पीछे इसका मुख्य कारण यहां के वनांचल क्षेत्र में स्थित इस कृषि केंद्र द्वारा वनांचल में रहने वाले आदिवासी किसानों को अपनी आय को दोगुना कैसे किया जाए, इसका प्रसार करने के साथ-साथ औषधि पक्षी कड़क नाथ मुर्गे के प्रजनन को लेकर शोध करते हुए एक नया आयाम दिया था.

लिहाजा, इससे आज वनांचल के आदिवासियों को काफी लाभ मिल रहा है. वे अपने आय में दोगुना कर स्वरोजगार बन रहे हैं. आपको बता दें कि कांकेर कृषि केंद्र को ये पहली बार राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कार मिलने पर जहां इन वैज्ञानिकों का मनोबल ऊंचा हुआ. वहीं इनके कार्य से जिले के साथ साथ प्रदेश और देश को भी एक नया पहचान भी मिला.



मामले में कृषि केंद्र कांकेर के वैज्ञानिक बीरबल साहू का कहना है कि साल 2017 का पंडित दीनदयाल उपाध्याय कृषि प्रोत्साहन पुरस्कार प्रधानमंत्री के हाथों कृषि विज्ञान कांकेर को मिला है. इसमें उनका सबसे महत्वपूर्ण कार्य यह था कि किसानों की आय दोगुनी करने के लिए समन्वित कृषि प्रणाली मॉडल को उन्होंने बढ़ावा दिया था.
इसके अलावा पोषण वाटिका में पोषण सुरक्षा के लिए स्कूलों में एक आदर्श पोषण वाटिका कृषि विज्ञान केंद्र में प्रदर्शित कर उसे जिले के आदिवासी क्षेत्रों के स्कूलों में रिपलीकेशन किया साथ ही साथ इस तकनीक को पूरे प्रदेश में विस्तार किया गया. वहीं इसके अलावा उन्होंने औषधि पक्षी कड़क नाथ मुर्गे के प्रजनन और उत्पादन को बढ़ावा दिया था.

लिहाजा, इन्ही उल्लेखनीय कार्यों के कारण साल 2017 में राष्ट्रीय स्तर का पंडित दीनदयाल उपाध्याय कृषि प्रोत्साहन पुरस्कार कांकेर कृषि विज्ञान केंद्र को दिया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज